जुड़वां बहनों को फिर से मिले माता-पिता, अब जाएंगी कोलकाता

कोलकाता के आइटी इंजीनियर दंपती ने दोनों को लिया गोद

By: Lalit Saxena

Published: 16 May 2018, 06:02 AM IST

उज्जैन. मां के मरने के बाद सात साल की मासूम जुड़वा बहनों का पिता ने साथ छोड़ दिया। रेलवे स्टेशन पर पिता छोड़कर चला गया। चाइल्ड लाइन की मदद से दो बहनंे बालिका गृह पहुंची, जहां से मंगलवार को कोलकाता के आइटी इंजीनियर दंपती ने दोनों को गोद लिया। दो वर्ष की पेचीदा प्रक्रिया से गुजरने के बाद दंपती को जुड़वा बेटियों का सुख मिला। मां-पिता की छांव पाकर दोनों बहनों के चेहरे पर मुस्कान लौट आई।
सेवाभारती मातृछाया की देखरेख में उन्हेल की १३ वर्षीय दो जुड़वा बहनें पूजा एवं देविका लालपुर बालिकागृह में रह रही थी। मंगलवार को इन्हें कोलकाता के आईटी इंजीनियर अंजोन गंगोपाध्याय एवं सोमा गंगोपाध्याय दंपती ने दत्तक के रूप में गोद लिया। बाल संरक्षण अधिकारी अमृता सोनी ने बताया गंगोपाध्याय दंपती ने दत्तक पुत्री गोद लेने के लिए वर्ष २०१५ में ऑनलाइन आवेदन किया था। इसके बाद उन्हें ऑनलाइन बेटियों की फोटो दिखाई गई। जिस आधार पर उन्होंने पूजा और देविका को गोद लेने का निर्णय लिया। इस पर सेवाभारती मातृछाया के अध्यक्ष रवि सोलंकी, उपाध्यक्ष रितेश सोनी, ओम जैन, सहसचिव डॉ. चिंतामणि राठौर, मातृछाया प्रबंधक अनुराग जैन, रत्नेश जैन, बालिका गृह अधीक्षिका मीना मूंगे आदि ने परिवार के संबंध में सारी तस्दीक की। परिवार तीन दिन पहले बच्चियों से आकर मिला और मंगलवार को औपचारिक प्रक्रिया पूर्ण होने के बाद इंदौर से कोलकाता के लिए फ्लाइट से रवाना हो गए।
दोनों बहनों ने पिता को दी मुखाग्नि-करीब दो वर्ष पहले पिता मानसिंह की रेलवे स्टेशन पर मौत हो गई थी। वह रेलवे स्टेशन पर ही रहता था। मौत के बाद शिनाख्त के लिए देविका-पूजा को बुलाया गया। जिसके आधार पर मानसिंह की शिनाख्त की गई। दोनों बहनों ने ही पिता को मुखाग्नि दी थी।
विवेकानंद कॉलोनी में पांच घंटे रही बिजली गुल
रहवासियों ने बताया केबल ऑपरेटर्स की केबल में चिंगारी उठने से लगी आग, कंपनी ने बैठाई जांच
उज्जैन विवेकानंद नगर कॉलोनी के सी सेक्टर के रहवासी मंगलवार को पांच घंटे तक बिजली गुल होने से भीषण गर्मी में परेशान होते रहे। यहां पर केबल जलने से आग लग गई, जिसके ठीक होने में लंबा समय लगा। रहवासियों ने खंभे पर ***** की लाइन के केबल में चिंगारी उठने से आग लगने की शिकायत विद्युत कंपनी में की है।
विवेकानंद नगर कॉलोनी के सी सेक्टर में दोपहर करीब ३ बजे अचानक खंभे पर आग लगना शुरू हो गई। थोड़ी देर में खंभे पर लगी डीपी सहित अन्य केबल धू-धू कर जलने लगा। इसी दौरान कॉलोनी की लाइन गुल हो गई। भर दोपहर में अचानक बिजली गुल होने व केबल जलने पर रहवासियों ने तत्काल विद्युत कंपनी को शिकायत की। रहवासियों ने बताया कि खंभे पर ही केबल ऑपरेटर की लाइन भी जा रही है। इसी में से चिंगारी उठी और इसने बिजली की लाइन को चपेट में ले लिया। बाद में यहां पहुंची विद्युत कंपनी की टीम ने लाइन सुधारने का काम शुरू किया। इसके चलते क्षेत्र में करीब पांच घंटे तक बिजली गुल रही। इधर, पूर्वी संभाग के इइ केतन रायपुरिया का कहना है कि विवेकानंद नगर में केबल ऑपरेटरर्स की लाइन से विद्युत पोल में आग लगने की शिकायत रहवासियों ने की है। मामले की जांच करवा रहे हैं।
जमा नहीं कराते शुल्क
शहर में केबल ऑपरेटर्स की ओर से विद्युत खंभों पर केबल के साथ एम्पीफायर लगा रखे है। इनमें करंट प्रवाहित होता है। नियमानुसार ऑपरेटरर्स को खंभों पर केबल डालने की विधिवत अनुमति के साथ सालाना शुल्क भी जमा करना होता है। कंपनियों द्वारा इसका समय पर शुल्क नहीं भरा जाता वहीं शुल्क बचाने के लिए डाली गई लाइन की जानकारी भी नहीं दी जाती। कंपनियों के लाखों रुपए भी बकाया है। इससे बिजली कंपनी को आर्थिक नुकसान हो रहा है वहीं अवैध केबल लाइनों से घटना का अंदेशा भी बना हुआ है।

Lalit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned