जब लोगों ने पुलिस पर बरसाए पत्थर, तो छोडऩा पड़े आंसू गैस के गोले...

Ujjain News: पुलिस को पत्थरों का सामना करना पड़ा। अपने बचाव और स्थिति पर काबू पाने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े।

उज्जैन. मकर संक्रांति के दिन पुलिस को पत्थरों का सामना करना पड़ा। अपने बचाव और स्थिति पर काबू पाने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े। दरअसल, सेतु निगम की जमीन पर बसी मोतीनगर बस्ती को खाली करवाने पहुंचे पुलिस-प्रशासन के दल को रहवासियों के उग्र विरोध का सामना करना पड़ा। कार्रवाई के दौरान एक महिला के मकान में दबने की अफवाह फैलने पर पहले से ही नाराज रहवासियों ने दल पर पथराव शुरू कर दिया। इसमें नगर निगम की तीन जेसीबी सहित कई शासकीय वाहन क्षतिग्रस्त हो गए। स्थिति को काबू करने के लिए जवाब में पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे। आधा घंटे की मशक्कत के बाद स्थिति नियंत्रण में आ सकी।

कुछ दिनों से चल रही थी कार्रवाई
कुछ दिनों से मोती नगर को खाली करवाने की कवायद चल रही थी। बुधवार को प्रशासनिक अधिकारी पुलिस बल और नगर निगम के संसाधन लेकर मौके पर पहुंचे। कार्रवाई को लेकर शुरुआत में रहवासियों ने हल्का-फुल्का विरोध जताया लेकिन फिर अधिकांश ने मकान खाली करना शुरू कर दिया। इधर प्रशासन ने खाली मकानों को तोडऩे की कार्रवाई भी शुरू कर दी। दोपहर करीब 3.50 बजे मोती नगर की एक गली में मकान तोडऩे के दौरान महिला के मलबे में दबने की अफवाह फैल गई। इससे प्रभावित रहवासियों का आक्रोश बढ़ गया और उन्होंने अंधाधुुंध पथराव शुरू कर दिया।

Show More
Lalit Saxena
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned