scriptRead special news... what is Nav-Samvat, how is the naming done | पढ़ें खास खबर...क्या है नव-संवत, कैसे होता है नामकरण | Patrika News

पढ़ें खास खबर...क्या है नव-संवत, कैसे होता है नामकरण

मध्यप्रदेश की इस नगरी से सृष्टि के उदय का अहम जुड़ाव

उज्जैन

Published: April 02, 2022 02:16:35 pm

उज्जैन. विक्रम संवत कालगणना के तौर पर विश्व में उज्जैन की पहचान है। इसे सबसे प्राचीन कालगणना माना गया है, इसी दिन सृष्टि का उदय हुआ। सृष्टि को अब तक 1 अरब 95 करोड़ 58 लाख, 85 हजार 125 वर्ष हो गए है। उज्जैन से समय की उत्तपत्ति हुई और ज्योर्तिलिंग महाकालेश्वर का प्रार्दूभाव हुआ। नए वर्ष से ही प्रकृति में परिवर्तन होता है और पर्व-त्योहार शुरू हो जाते हैं। ऐसे में विक्रम संवत रूपी नया वर्ष पूरे देश और विश्व में भी मान्यता रखता है। विक्रम संवत 2079, 2 अप्रेल से शुरू होने वाला है। संवत घोषित करने के लिए कई नियमो का पालन करना होता है, इसमे जनता पर कर्ज ना हो, राज्य धन धान्य से परिपूर्ण हो इत्यादि। वैसे राजा विक्रमादित्य द्वारा शको को हराने के बाद इस संवत की घोषणा माना जाता है। एक वजह यह भी कि उज्जैन कालगणना का केंद्र भी है।

patrika
patrika
patrikaPatrika .com/upload/2022/04/02/photo_2022-04-02_13-38-07_7438387-m.jpg">
IMAGE CREDIT: patrika

राजा विक्रमादित्य के नाम पर विक्रम संवत
विक्रम शोध संस्थान उज्जैन के डायरेक्टर डॉ. श्रीराम तिवारी ने बताया, विक्रम संवत का नाम राजा विक्रमादित्य के नाम पर है। माना जाता है कि सम्राट विक्रमादित्य ने ईसा पूर्व 57 में इसका प्रचलन शुरू किया था। सम्राट विक्रमादित्य ने शकों के अत्याचार से मुक्त कराया था। उसी विजय की स्मृति में चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से विक्रम संवत का आरंभ हुआ। विक्रम संवत को देश के साथ नेपाल में भी माना जाता है। भारत के शासकीय कैलेंडरों में भी विक्रम संवत को मान्यता दी गई है। डॉ. तिवारी ने बताया कि विक्रम संवत 2078 को गुड़ी पड़वा के दिन से 2079 वर्ष हो जाएंगे।

उज्जैन की विश्व को अनुपम देन
ज्योतिषाचार्य पं. आनंदशंकर व्यास बताते हैं कि चैत्र शुक्ल का दिन श्रृष्टि के आरंभ और विक्रम संवत शुरू होने का दिन है, विक्रम संवत विश्व को कालगणना की देन है। उज्जैन कालगणना का केंद्र है और यहीं से इसकी उत्पत्ति हुई है। इस दिन से मौसम में परिवर्तन होता है और प्रकृति नया रूप लेती है। विक्रम संवत ईस्वी से 57 वर्ष आगे है। यानी जब ईस्वी सहित अन्य कालगणना नहीं थी उससे पहले विक्रम संवत प्रचलित था। इसी से तारीख का निर्धारण होता है। इस वर्ष विक्रम संवत में शनि राजा और गुरु मंत्री होंगे। यानी जिस दिन नव संवत आरंभ होता है उस दिन के वार के अनुसार राजा का निर्धारण होता है।

patrika
IMAGE CREDIT: patrika

ये है विक्रम संवत में खास
विक्रम संवत में एक वर्ष और सात दिन का सप्ताह है, विक्रम संवत में महिने का निर्धारण सूर्य व चंद्रमा की गति के आधार पर होता है। 12 राशियां बारह सौर मास है। उसी आधार पर महीनों का नामकरण हुआ है। विक्रम संवत का इस वर्ष नाम राक्षस संवत्सर ओर नल संवत्सर दो नाम दिए जा रहे है। सही नामराक्षस संवत्सर है। बनारस के विद्वानों ने भी यही नाम घोषित किया है। विक्रम संवत को राजा विक्रमादित्य ने घोषित किया था। उज्जैन कालगणना का केन्द्र है, इसलिए जयपुर के राजा जयसिंह ने वेधशाला का निर्माण भी उज्जैन मेंं कराया था।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

वाराणसी कोर्ट में सर्वे रिपोर्ट पर फैसला सुरक्षित, एडवोकेट कमिशनर ने 2 दिन का मांगा समय, SC में ज्ञानवापी का फैसला सुरक्षितAssam Flood: असम में बारिश और बाढ़ से भीषण तबाही, स्टेशन डूबे, पानी के बहाव में ट्रेन तक पलटीWest Bengal Coal Scam: SC ने ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक और रुजिरा की गिरफ्तारी पर रोक लगाई, दिल्ली की बजाय कोलकाता में पूछताछ करेगी EDराजस्थान BJP में सियासी रार तेज: वसुंधरा ने शायरी से साधा निशाना... जिन पत्थरों को हमने दी थीं धड़कनें, वो आज हम पर बरस...कांग्रेस के बाद अब 20 मई को जयपुर में भाजपा की राष्ट्रीय बैठक, ये रहा पूरा कार्यक्रमTRAI के सिल्वर जुबली प्रोग्राम में PM मोदी ने लॉन्च किया 5G टेस्ट बेड, बोले- इससे आएंगे सकारात्मक बदलावपूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिंदबरम के बेटे के घर पर CBI की रेड, कार्ति बोले- कितनी बार हुई छापेमारी, भूल चुका हूं गिनतीक्रिकेट इतिहास के 5 सबसे लंबे गेंदबाज, नंबर 1 की लंबाई है The Great Khali के बराबर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.