अब नए स्वरूप में दिखेगा महाकाल मंदिर क्षेत्र

महाकाल मंदिर विकास योजना में रुद्रसागर क्षेत्र का कायाकल्प किया जा रहा है, यहां शिव का दरबार भी सजा। मंदिर का मुख्य द्वार भी नए रूप में दिखाई देगा। महाकाल क्षेत्र में नयनाभिराम मूर्तियां-दीवारें कर रहीं हैं आकर्षित।

By: Hitendra Sharma

Updated: 12 Apr 2021, 07:58 AM IST

उज्जैन. महाकाल मंदिर का क्षेत्र धीरे-धीरे नया रूप ले रहा है। मंदिर के पीछे रुद्रसागर अब नए स्वरूप में दिखने लगा है। यहां देवी-देवताओं की बड़ी प्रतिमाएं स्थापित की जा रही हैं, जो आकर्षण का केंद्र हैं। इसके अलावा रुद्रसागर के चारों ओर ऊंची दीवार और इस पर बने म्यूरल भी लोगों को खूब पसंद आ रहे हैं। स्मार्ट सिटी कंपनी के अधिकारियों के मुताबिक आगामी दिनों में महाकाल मंदिर के पीछे रुद्रसागर का क्षेत्र पूरी तरह बदल जाएगा।

ujjain_mahakal_mandir.jpg

निर्माण कार्यों पर 700 करोड़ रुपए खर्च

मालूम हो कि मंदिर विकास योजना के तहत निर्माण कार्यों पर 700 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। इससे मंदिर क्षेत्र तकरीबन आठ गुना तक बढ़ेगा। स्मार्ट सिटी सीइओ जितेंद्र सिंह चौहान के मुताबिक निर्माण कार्य तय समय के मुताबिक चल रहे हैं। रुद्रसागर को चारधाम ओर महाकाल मंदिर से जोडऩे के लिए ब्रिज बनाने की तैयारी है। यह ब्रिज धनुष के आकार का होगा। इसके लिए ड्राइंग और डिजाइन तैयार कर ली गई है। इस ब्रिज से पैदल यात्री समेत हल्के वाहन भी निकल सकेंगे।

ujjain_mahakal_mandir_2.jpg

मंदिर का प्रवेश द्वार होगा चौड़ा
महाकाल मंदिर के पिछला हिस्सा ही नहीं बल्कि मुख्य प्रवेश द्वारा भी अगले दिनों में बदल जाएगा। यहां खुदाई का काम जारी है। इसके जरिये मंदिर परिसर के क्षेत्र को विस्तार दिया जा रहा है। मंदिर के प्रवेश द्वार को चौड़ा किया जाएगा, ताकि श्रावण मास में बाबा महाकाल की पालकी आसानी से निकल सके। मंदिर के पीछे महाकाल धर्मशाला टूटने से भी मंदिर का भव्य स्वरूप दिखने लगा है।

ujjain_mahakal_mandir_1.jpg
Hitendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned