देखे वीडियो: शहर की सबसे ऊंची बिल्डिंग में यह कैसा तमाशा

देखे वीडियो: शहर की सबसे ऊंची बिल्डिंग में यह कैसा तमाशा
Ujjain,garbage,ujjain hindi news,madhyapradesh,high building,

aashish saxena | Updated: 13 Jul 2019, 10:53:13 PM (IST) Ujjain, Ujjain, Madhya Pradesh, India

हाइराइज बिल्डिंग के सोसायटी कार्यालय में रहवासी ने ही उड़ेला कचरा, सोसायटी ने सीसीटीवी फुटेज के साथ निगमायुक्त को की शिकायत, आवश्यक कार्रवाई की मांग की है

 

उज्जैन. शहर की सबसे ऊंची 12 मंजिला हाइराइज बिल्डिंग में रहवासियों के बीच का विवाद निगमायुक्त व पुलिस तक पहुंचा है। हरिफाटक ब्रिज रोड स्थित हाइराइज बिल्डिंग शिवांश एलिगेंस रहवासी सहकारी संस्था ने बिल्डिंग के ही एक रहवासी द्वारा सोसायटी कार्यालय में कचरा फेंकने की शिकायत की है। सोसायटी ने शिकायत के साथ सीसीटीवी के वीडियो फुटेज भी उपलब्ध कराए हैं।

निगमायुक्त प्रतिभा पाल को की गई शिकायत में सोसायटी पदाधिकारियों ने बताया है कि सी-403 में रहने वाले अरविंद नील ने शाम ५ बजे सोसायटी कार्यालय में कचरा डाला। साथ ही सुपरवाइजर से कहा कि अभी तो ऑफिस में कचरा डाला है, कल सोसायटी अध्यक्ष की कुर्सी पर कचरा डालूंगा। शिकायत में उन पर पूर्व में भी गंदगी फैलाने के आरोप लगाए गए। सोसायटी अध्यक्ष ने निगमायुक्त को पत्र लिख व प्रति नीलगंगा पुलिस को देते हुए मामले में आवश्यक कार्रवाई की मांग की है।

और इधर शहर में डिस्पोजल पर कार्रवाई नहीं

शहर में पॉलीथिन केरी बैग व सभी तरह के डिस्पोजल बिक्री-उपयोग पर लगाई गई पाबंदी केवल कागजी साबित हो रही है। निगम की कुछ दिनों की सख्ती में तो पॉलीथिन शहर में कम हुई लेकिन अब फिर आसानी से फुटकर दुकानों से लेकर हर कहीं इसका उपयोग आम है। वहीं डिस्पोजल को लेकर जब तक चालानी कार्रवाई चलीं व्यवसाइयों में कुछ भय रहा लेकिन बाद में हालात पहले जैसे ही हो गए। शादी समारोह से लेकर हर बड़े आयोजन में बहुतायात में डिस्पोजल प्रयुक्त हो रहे हैं, जबकी मैरिज गार्डन व होटल संचालकों को निर्देश हैं कि वे अपने यहां डिस्पोजल उपयोग ना होने दें।

निगम के साधारण सम्मेलन में दो साल पहले सभी तरह के पॉलीथिन बैग पर रोक लगा दी थीं। साथ ही शहर में इसके निर्माण, भंडारण, विक्रय व उपयोग नहीं करने का आदेश जारी किया था। इसके पालन में लंबे समय निगम की कार्रवाई चली। गुजरात से आने वाली क्विंटलों मात्रा की पॉलीथिन नष्ट कराई, फैक्ट्री पर भी छापे मारे, लेकिन अब जैसे ये प्रक्रिया शिथिल हुई शहर में पॉलीथिन विक्रय पहले जैसा हो गया। छोटे से लेकर बड़े दुकानदार, अन्य व्यवसायियों के यहां पॉलीथिन सामान्य रूप से दी जाती है।

दो पहिया से सप्लाय, शहर से दूर गोदाम

शहर में पॉलीथिन के बड़े विक्रेताओं का व्यापार तो निगम ने लगभग बंद करा दिया, लेकिन अब छोटे कारोबारी शहर से दूर गोदाम लेकर वहां स्टॉक कर लेते हैं। कई दोपहिया चालक फुटकर दुकान वालों को सीधे मौके पर ही पॉलीथिन सप्लाय कर देते हैं। इस पर भी नियंत्रण व एेसा करने वालों पर भी जुर्माने की कार्रवाई होनी चाहिए।

पेनल्टी के कड़े प्रावधान

- किसी भी दुकान, प्रतिष्ठान, होटल, रेस्टोरेंट आदि से प्रथम बार जब्ती पर 1 हजार तथा यहीं से दूसरी बार जब्ती होने पर 2 हजार रुपए।

- किसी मौके से 1 से 2 क्विंटल जब्ती पर 5000 रुपए।

- 2 क्विंटल से 4 क्विंटल जब्ती तक 10,000 रुपए।

- 4 क्विंटल से अधिक व 6 क्विंटल से कम तक 15000 रुपए।

- 6 क्विटंल से अधिक जब्ती होने पर 20,000 रुपए पेनल्टी।
(नगर निगम द्वारा जारी आदेश अनुसार, स्वास्थ्य निरीक्षक अपने क्षेत्रों में ये कार्रवाई करेंगे।

इनका कहना

पॉलीथिन-डिस्पोजल बिक्री व उपयोग पर रोक है। निगम टीम गंदगी के साथ इसके उल्लंघन पर भी कार्रवाई करती है। निगम के साथ लोगों को भी अपनी आदतों में बदलाव लाना होगा, तब भी इनका उपयोग पूरी तरह बंद हो पाएगा।

योगेंद्र पटेल, उपायुक्त, स्वास्थ्य, नगर निगम
००

 

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned