अच्छी बारिश ने जलस्रोत की रौनक लौटाई, गंभीर डैम में आया इतना एमसीएफटी पानी

Lalit Saxena

Publish: Jul, 14 2018 08:08:02 AM (IST)

Ujjain, Madhya Pradesh, India
अच्छी बारिश ने जलस्रोत की रौनक लौटाई, गंभीर डैम में आया इतना एमसीएफटी पानी

साहिबखेड़ी भी तर, अपस्ट्रीम एरिया से रुक-रुककर जलबहाव जारी

उज्जैन. कैचमेंट एरिया व गंभीर नदी के उफान से गंभीर डैम ने शुक्रवार को ५०० एमसीएफटी के आंकड़े को पार कर लिया। गुरुवार रात तक ये संग्रहण ४६० एमसीएफटी पर था। डैम के अपस्ट्रीम क्षेत्र फतेहाबाद, चंद्रावतीगंज, देपालपुर व आसपास गांवों में हुई अच्छी बारिश से जलबहाव बना और डैम की संग्रहण क्षमता में इजाफा हुआ।
शुक्रवार को भी ग्राम धर्माट की पुलिया से पानी बहकर डैम में पहुंचा। पीएचई कंट्रोल रूम से मिली जानकारी अनुसार एक-दो दिन में यदि और अच्छी बारिश हुई तो लेवल ७०० एमसीएफटी को पार कर सकता है। इधर पेयजल के लिए आरक्षित किए गए साहिबखेड़ी तालाब क्षेत्र में अच्छी बारिश से ८० एमसीएफटी पानी संग्रहित हो गया है, जो डेड स्टोरेज लेवल से २ एमसीएफटी अधिक है। लेकिन जल संसाधन विभाग ने अब भी यहां की मेपिंग स्कैल पेंट नहीं कराई, जिसके कारण यहां का लेवल नापने में परेशानी हो रही है। मामूली से काम के लिए विभागीय अधिकारियों का इंतजार समझ से परे है।
जिले में अब तक ११ इंच वर्षा
भू-अभिलेख शाखा के अनुसार मानसून सत्र में उज्जैन जिले की तीन तहसीलों में पिछले चौबीस घंटों के दौरान वर्षा हुई है। इसमें उज्जैन तहसील में 6 मिमी, नागदा में 18 मिमी और बडऩगर तहसील में 4 मिमी वर्षा रिकॉर्ड की गई है। जिले में अभी तक औसत 296.4 मिमी (11 इंच से अधिक) वर्षा हो चुकी है, जबकि गत वर्ष इसी अवधि में जिले में औसत 128.1 मिमी (5 इंच से अधिक) वर्षा हुई थी।
दिन में रिमझिम,
रात में झमाझम
दिनभर की उमस के बाद रिमझिम बरसात ने शहर को भिगो दिया। इधर मौसम विभाग के अनुसार मानसून द्रोणिका के सक्रिय होने और आसपास के प्रदेश के ऊपर चक्रवात बना होने से एक बार फिर अच्छी वर्षा की संभावना है। दो दिनों से शहर में मानसून की गतिविधियां थम सी गई थी। शुक्रवार को सुबह से बादलों की मौजूदगी और वातावरण में नमी से दिनभर उमस बनी रहीं। शाम को स्थिति में बदलाव आया और करीब ५ बजे इंदौर रोड, देवास रोड के अधिकांश हिस्से में बौछारे पड़ी। इसके बाद रात ८ बजे से शहर में रिमझिम बरसात का दौर प्रारंभ होने से शहर तरबतर हो गया। फिर रात करीब ९.३० बजे झमाझम बारिश शुरू हो गई, जो काफी देर तक जारी रही।
शिप्रा का पानी उतरा, घाट की सफाई
उज्जैन के साथ आसपास के क्षेत्रों में तेज बरसात का दौर थमने के बाद शिप्रा नदी का पानी उतर गया है। इंदौर और देवास में बरसात के कारण गुरुवार कोशिप्रा का जलस्तर काफी बढऩे से पानी रातघाट पर आ गया था। शुक्रवार को जलस्तर कम होने के बाद घाट पर गाद ही गाद जमा थी। इसें फायर फाइटर की मदद से साफ किया गया।
अच्छी बारिश ने जलस्रोत की रौनक लौटाई... अपस्ट्रीम एरिया से रुक-रुककर जलबहाव जारी

Ad Block is Banned