शिवनवरात्रि : महाकाल ने धारण किया होलकर स्वरूप, भक्तों ने लगाए जयकारे...

शिवनवरात्रि पर्व के अवसर पर महाकाल ने होलकर मुखारबिंद धारण किया। शनिवार को बाबा महाकालेश्वर को मनमहेश मुखारबिंद धारण कराया जाएगा।

By: Lalit Saxena

Published: 10 Feb 2018, 12:31 PM IST

उज्जैन. शिवनवरात्रि पर्व के अवसर पर महाकाल ने होलकर मुखारबिंद धारण किया। शनिवार को बाबा महाकालेश्वर को मनमहेश मुखारबिंद धारण कराया जाएगा।

महाशिवरात्रि की बैठक में होता रहा मंथन, नहीं हो सका कुछ फैसला
महाशिवरात्रि पर वीआईपी को महाकाल मंदिर के गर्भगृह में प्रवेश देना है या नहीं इसे लेकर प्रशासन और पुलिस अधिकारी उलझन में हैं। लंबे समय तक मंथन के बाद भी गर्भगृह में जाने को लेकर फैसला नहीं हो सका। एडीजी ने कहा कि फैसला ऐसा लिया जाए, जिसका पालन हो। संभागायुक्त बोले कि थोड़ा कुछ भी गलत हुआ तो गले पड़ जाता है इसलिए जो व्यवस्था बने उसे बिगडऩे नहीं दिया जाए।

महाशिवरात्रि पर श्रद्धालुओं की सुविधा और सुरक्षा के लिए शुक्रवार को महाकाल प्रवचन हाल में प्रशासन और पुलिस अधिकारियों की बैठक उस वक्त कुछ गंभीर हो गई, जब सीएसपी शकुंतला रूहल ने सवाल किया क? शिवरात्रि ि पर महाकाल के गर्भगृह में प्रवेश को लेकर क्या स्थिति होगी? उन्होंने इसके साथ गत वर्ष शिवरात्रि पर केंद्रीय मंत्री उमा भारती के गर्भगृह में जाने के लिए धरने की घटना का जिक्र भी किया। सीएसपी ने कहा कि इस व्यवस्था पर कोई निर्णय होना चाहिए।

समन्वय से काम करना होगा
संभागायुक्त ने कहा कि निर्णय के पालन में समन्वय की आवश्यकता भी है। सभी अच्छा काम करते है पर जरा सा कुछ भी होता है तो सब के गल पड़ जाता है। ज्यादातर अनुभवी और पहले भी सेवाएं दे चुके अधिकारी-कर्मचारी हैं, इसका लाभ व्यवस्था व सुविधाओं को मिलना चाहिए। व्यवस्था को बनाने के लिए पूर्ण कार्ययोजना के अलावा परिस्थिति अनुसार भी निर्णय लेना आना चाहिए। वीआईपी के साथ ड्यूटी पर तैनात अधिकारी-कर्मचारी के दर्शन के लिए मंदिर समिति से समन्वय बनाया जाएं,ताकि विवाद की स्थिति नहीं बनें।

पुजारी-पुरोहित से चर्चा की जाएगी
वीआईपी के गर्भगृह में प्रवेश के संबंध कोई निर्णय लेने में अधिकारियों में संशय बना रहा। कलेक्टर ने कहा कि व्यवस्थाओं के लिए शनिवार को पुलिस कंट्रोल रूम में प्रशासन-पुलिस की संयुक्त बैठक प्रात: ११.३० बजे है। सभी व्यवस्थाओं की समीक्षा व मार्गदर्शन के बाद वीआईपी के गर्भगृह में प्रवेश पर पुजारी-पुरोहितों से बात होगी। इसके बाद ही कोई निणर्य होगा।

पुख्ता इंतजाम रखे जाएं
डीआईजी रमनसिंह सिकरवार ने सुझाव दिया कि प्रवेश लाइन के पास निर्गम भी होता है। खासकर हरसिद्धि मंदिर मार्ग-बेगमबाग मार्ग ऐसे स्थान हैं, जहां प्रवेश और निर्गम के लिए अधिक श्रद्धालु होते हैं। ऐसे स्थानों पर श्रद्धालुओं का आमना-सामना नहीं हो इसके पुख्ता इंतजाम होना चाहिए।

सभी ने दी जानकारी
बैठक में एएसपी अभिजीत रंजन, एडीएम जीएस डाबर ने सभी व्यवस्थाओं, कार्ययोजना और अधिकारियों की ड्यूटी की जानकारी दी। एएसपी नीरज पांडेय ने प्रवेश को लेकर कुछ सुझाव दिए। बैठक के पूर्व सभी अधिकारियों ने मंदिर का निरीक्षण किया।

Lalit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned