सड़क पर बिखरा सामान, कुर्सियां तोड़ीं, छात्रों की राजनीति में हर कोई हुआ परेशान

उग्र हुए छात्र, राहगीर, यात्री और वाहनों को होना पड़ा परेशान...।

By: Manish Gite

Published: 10 Sep 2020, 04:32 PM IST

उज्जैन. देवासगेट बस स्टैंड के नजदीक स्थित शासकीय माधव कला एवं वाणिज्य महाविद्यालय को अंकपात क्षेत्र में बनाई कालिदास गर्ल्स कॉलेज की नई बिल्डिंग में शिफ्ट करने का मामले में अब राजनीति गरमाने लगी है। कांग्रेसी नेताओं ने बुधवार को कॉलेज परिसर से लेकर बाहर तक जमकर नारेबाजी की, सड़कों पर कुर्सियां तोड़ीं, पुतला जलाया, सामान बिखेरा और चामुंडा चौराहे पर शृंखला बनाकर चक्काजाम कर दिया। भारी पुलिस बल मौजूद रहा। फायर ब्रिगेड की लॉरी ने जलते पुतले को जैसे-तैसे बुझाया। आसपास से गुजरने वाले राहगीर, यात्री और वाहनों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा।


बता दें कि कॉलेज से सामान को नए भवन मे शिफ्ट किया जाना था, इसके लिए तैयारी भी शुरू हो गई थी। इसी दौरान बड़ी संख्या में विद्यार्थी और कांग्रेसी नेता वहां पहुंचे और परिसर में हंगामा मचाया था। उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव के खिलाफ भी नारेबाजी की थी।

 

दरअसल शा. कालिदास कन्या महाविद्यालय की नई बिल्डिंग श्रीराम जनार्दन मंदिर अंकपात के समीप बनकर तैयार हो गई है। इसको एकांत में होने के कारण कन्या कॉलेज बीच शहर में लाने का कार्य किया जा रहा था, जिसे लेकर छात्र संगठनों ने विरोध शुरू कर दिया। दूसरे दिन बुधवार को भी जमकर हंगामा हुआ।

 

 

ये रहे मौजूद

माधव कॉलेज को स्थानांतरित करने के विरोध में शहर कांग्रेस अध्यक्ष महेश सोनी, पूर्व पार्षद रवि राय, सेवादल नेता अरुण वर्मा, जिला कांग्रेस जिला अध्यक्ष कमल पटेल, कांग्रेस नेता योगेश शर्मा चुन्नू, वीरभद्र यादव, कांग्रेस पार्षद माया त्रिवेदी, नाना तिलकर आदि ने विरोध प्रदर्शन किया। छात्र कॉलेज की बिल्डिंग के ऊपर भी चढ़ गए। इसके बाद कांग्रेस नेता चामुंडा माता चौराहा पहुंचे और यहां नारेबाजी कर प्रदर्शन कर दिया।

 

अगले सत्र में माधव साइंस-कॉमर्स एवं ऑर्ट कॉलेज बन जाएगा

मामले में उच्च शिक्षा मंत्री का कहना है कि माधव कॉलेज अगले सत्र से माधव साइंस-कॉमर्स एंड ऑर्ट कॉलेज बन जाएगा। चूंकि शा. कालिदास कन्या महाविद्यालय के रामजनादज़्न मंदिर क्षेत्र में बने भवन में अब माधव कॉलेज लगेगा, इसलिए वहां बनाई गई सभी लेबोरेटरीज माधव कॉलेज में खुलने वाली साइंस फेकल्टी के लिए काम में आ जाएगी। इस प्रकार नया डेवलप इंफ्रास्ट्रक्चर जैसा है, वैसा ही काम आ जाएगा।

 

कॉलेज शिफ्टिंग : प्रमुख बिंदुओं पर फोकस

- दस्तावेज गुम हुए तो जवाबदारी किसकी, क्योंकि कॉलेज का हर दस्तावेज महत्वपूर्ण व गोपनीय होता है।
- सामान की शिफ्टिंग के लिए दोनों कॉलेजों के प्राचार्यों ने बनाई नीति।
- दोनों कॉलेजों में कितना फर्नीचर है और कितनी आलमारियां, टेबल आदि। प्राचार्यों में तय हुआ कि यदि एक के पास अधिक एवं दूसरे के पास कम हैं, तो वहां जितनी हैं, उसे कम या अधिक करके शेष गिनती यहां से पूरी कर लेंगे। ऐसा करने से अधिक सामान नहीं लाना पड़ेगा और दोनों को सुविधा हो जाएगी।

सिंहस्थ भूमि पर बना ली अवैध बिल्डिंग

इस मामले को लेकर मप्र कांग्रेस कमेटी के प्रदेश प्रवक्ता विवेक गुप्ता का कहना है कि कॉलेज के लिए नवनिर्मित भवन सिंहस्थ क्षेत्र में अवैध रूप से बना है। उक्त कॉलेज भवन के लिए केंद्र सरकार से ग्रांट-6 के मद में शासकीय कन्या महाविद्यालय जो कि अनुसूचित बहुल क्षेत्र में बनाने के लिए राशि स्वीकृत की गई थी, जबकि ये बिल्डिंग शहर के वार्ड क्रमांक 2 में ही बना दी गई है, केंद्र सरकार को गुमराह किया गया है। जो महाविद्यालय के पैमानों व मानदंडों पर भी सही नहीं है, आगे जाकर इसमें पढऩे वाले अध्ययनरत विद्यार्थियों की डिग्री पर खतरा हो सकता है। ऐसी स्थिति में माधव कॉलेज को वहां शिफ्ट करना हजारों छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ करना है। उक्त अवैध बिल्डिंग के संबंध में जो ईओडब्ल्यू में आर्थिक अपराध का मामला भी दर्ज है, कलेक्टर के सामने पक्ष रख दिया है, अन्यथा कोर्ट में जाएंगे।

 

एक तरफ हंगामा, दूसरी तरफ विधायक जैन का अभिनंदन

शहर में कॉलेज शिफ्टिंग को लेकर एक तरफ हंगामा मचा हुआ था, वहीं दूसरी तरफ भाजयुमो ने विधायक एवं पूर्व मंत्री पारस जैन का घर पहुंचकर बुके भेंटकर उनका अभिनंदन व आभार व्यक्त किया। भारतीय जनता युवा मोर्चा नगर जिला उज्जैन के महामंत्री अमेय शर्मा ने कहा बेटियों की सुरक्षा हेतु दी गई इस सौगात हेतु आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर मोहित देशमुख, सुमित वेदी, शुभम राय आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे। जानकारी भूपेन्द्र सिजेरिया ने दी।

 

Manish Gite
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned