अर्थशास्त्र में प्रवेश लेने वालों को भेज दिया राजनीतिक विज्ञान में

विक्रम विश्वविद्यालय अध्ययनशाला का मामला, सीएम हेल्पलाइन पर हुई शिकायत

Lalit Saxena

September, 1308:03 PM

Ujjain, Madhya Pradesh, India

उज्जैन. विक्रम विश्वविद्यालय में संचालित पाठ्यक्रम में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों को उनकी मर्जी के बिना दूसरे कोर्स में स्थानांतरित किया जा रहा है। विदेशी भाषा पाठ्यक्रम के प्रवेशों में हुई गड़बड़ी का मामला खत्म नहीं हुआ कि अब बीए ऑनर्स अर्थशास्त्र का मामला सामने आ गया है। बीए ऑनर्स में एडमिशन लेने वाले विद्यार्थियों को राजनीतिक विज्ञान व इतिहास में पढऩे के लिए भेज दिया गया। विद्यार्थियों ने जब सीएम हेल्पलाइन पर शिकायत दर्ज करवाई तो हड़कंप मचा। इसके बाद आनन-फानन में विद्यार्थियों को अर्थशास्त्र की कक्षाओं में ही बैठाने की तैयारी शुरू की गई है।

यह है मामला
विक्रम विवि अध्ययनशाला में स्ववित्तीय व्यवस्था के तहत संचालित होने वाले पाठ्यक्रम में न्यूनतम पांच विद्यार्थी प्रवेश होने का नियम है। हालांकि अगर पांच से कम प्रवेश होते हैं तो विवि प्रशासन सभी विद्यार्थियों की फीस वापस कर अन्य संस्थान में प्रवेश की व्यवस्था करेगी, लेकिन विक्रम विवि ने कम प्रवेश का हवाला देकर बीए ऑनर्स अर्थशास्त्र के विद्यार्थियों को अन्य विषय में भेज दिया।

कुलपति ने कहा-शुरू करें अर्थशास्त्र की क्लास
सीएम हेल्पलाइन पर शिकायत होने के बाद अधिकारियों में हड़कंप मच गया। कुलपति प्रो. एसएस पाण्डे ने अर्थशास्त्र विभाग प्रमुख तपन चौरे को बुलाया, लेकिन वह अवकाश पर थे। इसके चलते प्रभारी प्रमुख एसके मिश्रा पहुंचे। कुलपति ने उन्हें निर्देश दिए कि अर्थशास्त्र की कक्षाओं में ही विद्यार्थियों को बढ़ाएं।

छात्रों की संख्या देखनी पड़ेगी
प्रभारी प्रमुख एसके मिश्रा ने बताया कि बीए ऑनर्स अर्थशास्त्र पाठ्यक्रम की प्रवेश संख्या की उन्हें जानकारी नहीं। एडमिशन की संख्या पांच से अधिक है। तो कक्षाओं का संचालन किया जाएगा। साथ ही अगर पांच से कम होगी। तब भी विद्यार्थियों के निर्देशानुसार कार्रवाई की जाएगी। जानकारी लेकर ही बताऊंगा।

Read More News : भाजपा नेता के दफ्तर में चोरी, चाबियों के गुच्छे से एक चाबी गायब, आशंका किस पर...

Read More News : तंग गलियों से निकले एशिया के सबसे बड़े दुलदुल, देखने के लिए सैकड़ों लोग जमा हुए

Lalit Saxena
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned