नहीं थमी बारिश, प्रशासन को करनी पड़ी ये घोषण

नहीं थमी बारिश, प्रशासन को करनी पड़ी ये घोषण
जिले में यलो अलर्ट, दिनभर तरबतर होता रहा शहर, लगातार बरसात के कारण क्षिप्रा सहित जिले की कई नदी और नाले उफान पर

rishi jaiswal | Updated: 14 Sep 2019, 08:00:00 AM (IST) Ujjain, Ujjain, Madhya Pradesh, India

जिले में यलो अलर्ट, दिनभर तरबतर होता रहा शहर, लगातार बरसात के कारण क्षिप्रा सहित जिले की कई नदी और नाले उफान पर

उज्जैन. मानसून के सक्रिय सिस्टम की वजह से बरसात का दौर जारी रहा। शुक्रवार को दिनभर कभी तेज तो कभी रिमझिम बौछारों से शहर तरबतर होता रहा। मानसून सिस्टम के सक्रिय रहने से भारी बरसात होने की संभावना बनी हुई है। जिले को यलो अलर्ट के दायरे में रखा गया है। लगातार बारिश के कारण क्षिप्रा सहित जिले के कई नदी-नाले उफान पर हैं। उज्जैन में पिछले २४ घंटे के दौरान ८६ मिमी बारिश हो चुकी है। वहीं अब तक1062 मिमी हुई है।
मौसम विज्ञानियों के अनुसार प्रदेश में चार मानसूनी सिस्टम के सक्रिय होने के कारण झमाझम बरसात का दौर चल रहा है। आने वाले दिनों में उज्जैन के साथ कई स्थानों पर रुक-रुक कर बरसात का सिलसिला जारी रहेगा। मौसम विभाग ने उज्जैन के लिए यलो अलर्ट जारी किया है, यानी भारी वर्षा के संभावना बनी हुई है।
यह सिस्टम है सक्रिय
मौसम विज्ञानियों ने बताया कि मौसम को प्रभावित करने वाला कम दबाव का क्षेत्र उत्तर-पूर्वी मध्य प्रदेश एवं उससे लगे दक्षिण-पूर्वी उत्तर प्रदेश पर बना हुआ है। हवा के ऊपरी भाग में चक्रवाती हवा का घेरा ऊंचाई तक बना है जो दक्षिण दिशा की ओर झुका हुआ हैं। दूसरा मानसून द्रोणिका अनूपगढ़ अलवर से कम दबाव के क्षेत्र से होते हुए बंगाल की खाड़ी तक गया हैं। तीसरा द्रोणिका हवा के ऊपरी भाग में कच्छ से पश्चिमी बंगाल से हिमालय वाले क्षेत्र तक बना हुआ है। यह दक्षिण पश्चिम मध्य प्रदेश से कम दबाव के क्षेत्र होते हुए बिहार के दक्षिण हिस्से के बीच गया है तभा हवा के ऊपरी भाग में ऊंचाई तक बना है। चौथा हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात उत्तर-पूर्व अरब सागर और उससे लगे सौराष्ट्र और कच्छ के क्षेत्र में बना हैं। इन कारणों से उज्जैन के साथ प्रदेश के कई जिलों में बरसात की संभावना बनी हुई है।
हर जिले में औसत से ज्यादा बरसात
शहर व जिले के साथ ही बादलों ने संभाग को भी तरबतर किया है। २४ घंटे के दौरान (शुक्रवार सुबह तक) संभाग में औसत १.७१ इंच बारिश हुई। इस दौरान नीमच जिले में सर्वाधिक २.३६ इंच बारिश हुई। संभाग में इस सीजन में अब तक ५३.९२ इंच बारिश हो चुकी है।
कलेक्टर ने मां क्षिप्रा को चुनरी चढ़ाई
उज्जैन. क्षिप्रा के बढ़ते जलस्तर को लेकर कलेक्टर शशांक मिश्र शुक्रवार को बारिश में ही रामघाट के नजदीक पहुंचे। रौद्र रूप शांत करने के लिए कलेक्टर ने विधि-विधान से मां क्षिप्रा का पूजन-अर्चन किया और चुनरी ओढ़ाते हुए रौद्र रूप शांत करने का आह्वान किया। इसके अलावा कलेक्टर मिश्र, एसपी सचिन अतुलकर व निगमायुक्त प्रतिभा पाल ने रामघाट के समीप बड़ा पुल, नृसिंह घाट व त्रिवेणी घाट का निरीक्षण किया। इसके साथ ही एडीएम डॉ आरपी तिवारी ने भी विभिन्न घाटों का निरीक्षण कर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया।
सेल्फी न लेने की अपील, घाटों पर जाना प्रतिबंधित किया : नदी के उफान को देखते हुए सुरक्षा की दृष्टि से प्रशासन ने सभी घाटों पर जाने पर रोक लगा दी है। डूब प्रभावित पुल-पुलियाओं पर बैरिकेड्स लगाकर आवाजाही बंद की है वहीं प्रमुख स्थानों पर पुलिस बल तैनात किया है। शुक्रवार को पुराना बड़े पुल पर आवाजाही बंद रखकर आने-जाने के लिए नए पुल का ही उपयोग किया गया। यहां भी पुलिस जवान तैनात थे। इधर प्रशासन ने लोगों से अपील की है कि वे बांध, तालाब, नदी आदि जलाशयों नजदीक खड़े होकर सेल्फी न लें, इससे दुर्घटना की आशंका रहती है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned