scriptThe road to the school is bad since independence | गड्ढों में हिचकोले ले रहा नौनिहालों का भविष्य | Patrika News

गड्ढों में हिचकोले ले रहा नौनिहालों का भविष्य

सामान्य दिनों में इस टुकड़े को पार करने में वाहन चालकों को आधा घंटे का सफर करना पड़ता है, लेकिन बारिश में इसमें सफर जोखिमभरा हो जाता है।

उज्जैन

Updated: June 25, 2022 05:21:56 pm

उज्जैन. कीचड़ से सना और गड्ढाें पटा यह रोड घट्टिया तहसील के गांव मीण से भीलखेड़ा तक का है। इस मार्ग की लंबाई लगभग 3 किलोमीटर है, लेकिन यह आजादी के बाद से अपने विकास की बांट जो रहा है। सामान्य दिनों में इस टुकड़े को पार करने में वाहन चालकों को आधा घंटे का सफर करना पड़ता है, लेकिन बारिश में इसमें सफर जोखिमभरा हो जाता है। यूं मानो बारिश में यह बंद ही हो जाता है, लेकिन मीण से आने वाले स्कूली बच्चों को इसी से गिरते-पड़ते हाई स्कूल पहुंचना पड़ता है। इस मार्ग पर 3-4 से चार जगह खतरनाक नाले है जो बारिश में रोड को घंटो बंद कर देता है। मीण से कुछ ही दूरी पर जामुन के पेड़ के पास एक 4-5 फीट गहरा नाला है जो थोड़ी-सी बारिश में उफान पर आ जाता है। बच्चे और शिक्षक इसी नाले को पार कर स्कूल पहुंचते है। बारिश में अभिभावकों के मन में हमेशा डर बना रहता है। बारिश में आधे बच्चे तो स्कूल ही नहीं पहुंच पाते है। मीण से करीब 50 बच्चे स्कूल जाते है।

गड्ढों में हिचकोले ले रहा नौनिहालों का भविष्य
गड्ढों में हिचकोले ले रहा नौनिहालों का भविष्य

गांव भीलखेड़ा में 2007 में हाईस्कूल की सौगात मिल गई थी, लेकिन शिक्षा विभाग की लापरवाही और जनप्रतिनिधियों की अनदेखी के कारण 15 वर्ष बाद भी हाईस्कूल को खुद का भवन नहीं मिल पाया है। 2007 से ही माध्यमिक विद्यालय में हाईस्कूल की कक्षाएं लग रही है। दो कमरों के भवन में पांच कक्षाएं सुचारू रूप से संचालित करना किसी परेशानी से कम नहीं है। दो पाली में कक्षाएं लगती है, जिसमें पहली पाली में सुबह 7.30 बजे से दोपहर 2 बजे तक हाई स्कूल के छात्र और दूसरी पाली में सुबह 10 बजे से 4.30 बजे तक माध्यमिक के विद्यार्थियाें को पढ़ाया जाता है।

टीचरों की भी समस्या

सड़क की समस्या सिर्फ स्कूली बच्चों तक ही सीमित नहीं है। स्कूल में पढ़ाने के लिए अधिकतर शिक्षक उज्जैन से आते है। सामान्य दिनों में तो शिक्षक पानबिहार से मीण होते हुए स्कूल पहुंचते है, लेकिन बारिश में पानबिहार-बिहारिया-कालूहेड़ा होते हुए स्कूल पहुंचते है। शिक्षकों को दूरी भी ज्यादा तय करना पड़ती है और समय भी ज्यादा लगता है।

बाहर से ज्यादा आते हैं बच्चे

हाईस्कूल और माध्यमिक स्कूल में भीलखेड़ा से ज्यादा आसपास के गांव से ज्यादा बच्चे पढ़ने आते है। हाईस्कूल होने के कारण सुतारखेड़ा, मीण, मेलानिया, बोरखेड़ी, किशनपुरा से बच्चे आते है, लेकिन सड़क की समस्या पढ़ाई में बाधा बन जाती है। यहीं कारण है कि धीरे-धीरे बाहरी बच्चों की संख्या कम होती जा रही है।

यह भी पढ़ें : ई-वाहनों की चार्जिंग बिजली विभाग के लिए बनी पहेली, जानिये क्या है पूरा मामला

मुरम का पैंचवर्क भी बेअसर

पूरी बारिश में पंचायत की ओर से जरूर एक-दो बार मुरम डालकर गड्ढों को भरा जाता है, लेकिन यह मुरम कुछ घंटों में ही गड्ढों में तब्दील हो जाती है। सड़क पक्की बन जाती है तो बच्चों के साथ-साथ कई गांवों के ग्रामीणों को इसका लाभ मिलेगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

श्रीनगर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, एक आतंकी को लगी गोली, जवान भी घायल38 साल बाद शहीद लांसनायक चंद्रशेखर का मिला शव, सियाचिन ग्लेशियर की बर्फ में दबकर हो गए थे शहीदराष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का देश के नाम संबोधन, कहा - '2047 तक हम अपने स्वाधीनता सेनानियों के सपनों को पूरी तरह साकार कर लेंगे'पंजाब में शुरु हुई सेहत क्रांति की शुरुआत, 75 'आम आदमी क्लीनिक' बन कर तैयार, देश के 75वें वर्षगांठ पर हो जाएंगे जनता को समर्पितMaharashtra: सीएम शिंदे की ‘मिनी’ टीम में हुआ विभागों का बंटवारा, फडणवीस को मिला गृह और वित्त, जानें किसे मिली क्या जिम्मेदारीलाखों खर्च कर गुजराती युवक ने तिरंगे के रंग में रंगी कार, PM मोदी व अमित शाह से मिलने की इच्छा लिए पहुंचा दिल्लीशेयर मार्केट के बिगबुल राकेश झुनझुनवाला की मौत ऐसे हुई, डॉक्टर ने बताई वजहBJP ने देश विभाजन पर वीडियो जारी कर जवाहर लाल नेहरू पर साधा निशाना, कांग्रेस ने किया पलटवार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.