उज्जैन-भोपाल रेलखंड का यह महत्वपूर्ण स्टेशन हो रहा अनदेखी का शिकार

भारतीय रेलवे को मूलभूत सुविधाओं को आम जनता तक पहुंचाने व परिवहन का सबसे बेहतर साधन माना जाता है लेकिन इसके जिम्मेदारों द्वारा जिम्मेदारी से कार्य नहीं किए जाने से समस्याओं का अंबार लग जाता है।

सुमराखेड़ा. निर्भयसिंह राठौर
भारतीय रेलवे को मूलभूत सुविधाओं को आम जनता तक पहुंचाने व परिवहन का सबसे बेहतर साधन माना जाता है लेकिन इसके जिम्मेदारों द्वारा जिम्मेदारी से कार्य नहीं किए जाने से समस्याओं का अंबार लग जाता है।
हम बात कर रहे हैं तराना रोड रेलवे स्टेशन की। इस स्टेशन का उपयोग तहसील के लगभग २६५ गांव के ग्रामीण करते हैं। साथ ही रोज दो जून की रोटी के लिए अप-डाउन करने वाले मजदूर वर्ग एवं विद्यार्थियों द्वारा पढ़ाई के लिए उपयोग किया जाता है, लेकिन यहां पर व्याप्त अव्यवस्थाओं ने आम जनता को उससे दूर हटने पर मजबूर कर दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छता अभियान को तो यहां पर अच्छे खासे तरीका से पलीता लगाया जा रहा है। स्टेशन पर ना तो पीने के साफ पानी है। ना ही छायादार शेड। अधिकांश समय नलों में पानी ही नहीं आता। इससे यात्रियों को भटकना पड़ता है। स्टेशन पर व्याप्त गंदगी आमजनों को मुंह पर रूमाल रखने को मजबूर कर देती है। ट्रैक पर फैली गाजरघास, शौचालय में व्याप्त गंदगी एवं यात्रियों को चढऩे उतरने वाला टूटा हुआ सीमेंट का शेड हादसों को न्योता दे रहा है।
जब मैं तराना विधायक था तब से यह मेरा विधानसभा क्षेत्र रहा है। वर्तमान में उज्जैन-आलोट सांसद हूं। इंटरसिटी का स्टॉपेज यहां करवाने की कोशिश कर रहा हूं। यह बात लोकसभा में भी उठा दी है। रही बात अव्यवस्था का तो मैं जल्द ही रेल मंत्री से मिलूंगा और तराना रोड रेलवे स्टेशन पर अव्यवस्थाएं ठीक करवाने की मांग करूंगा।
सांसद अनिल फिरोजिया, उज्जैन-आलोट सांसद
प्रयास जारी हैं
जब सत्यनारायण जटिया केंद्र में मंत्री थे तब मैंने नर्मदा एक्सप्रेस का स्टॉपेज करवाया था। मेरी कोशिश इंटरसिटी स्टॉपेज के लिए जारी है।
कन्हैयालाल राठौर, भाजपा नेता
हमारा गांव वैसे तो सुमराखेड़ा है लेकिन रेलवे की एक अलग ही पहचान तराना रोड रेलवे स्टेशन सुमराखेड़ा है। यहां मूलभूत सुविधाएं नहीं हैं। हमारी स्टेशन पर पुलिस व्यवस्था नहीं है। उद्घोष की कमी है। साथ ही प्लेटफॉर्म नंबर दो पर तो पानी की व्यवस्था भी नहीं है।
शांतिलाल पटेल, भूतपूर्व सरपंच
हमारा रेलवे स्टेशन 265 गांव का एवं तराना तहसील का प्रमुख स्टेशन है। यहां पर जिधर देखो अव्यवस्था है। महत्वपूर्ण ट्रेनों के स्टॉपेज से भी यह वंचित है। यहां पर शीघ्र व्यवस्था ठीक की जाना चाहिए।
सुनील रघुवंशी
स्टेशन पर जो भी अव्यवस्था हैं। उसे जल्द ही ठीक कर दिया जाएगा।
निरंजनकुमार सिंह, स्टेशन मास्टर, तराना रोड
ये गाडिय़ां रुकती हैं स्टेशन पर
इंदौर-भोपाल पैसेंजर, सोमनाथ एक्सप्रेस, साबरमती एक्सप्रेस, दाहोद हबीबगंज फास्ट पैसेंजर, नागदा-बीना पैसेंजर, उज्जैन-भोपाल पैसेंजर, नर्मदा एक्सप्रेस।

Ashish Sikarwar
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned