महाकाल के आंगन में ही गैस सिलेंडर का यह कैसा दुरुपयोग

धीमी गति से चल रहा काम सावन में दे सकता है दिक्कत, प्रवेश के लिए बनानी पड़ सकती है नई योजना, एजेंसी ने लोहे के पिलर खड़े कर टीन डाल दिए

By: Gopal Bajpai

Published: 07 Jun 2018, 08:00 AM IST

 

उज्जैन. महाकालेश्वर मंदिर परिसर में सभा मंडप का निर्माण जारी है। सभामंडप की मजबूती के लिए लोहे के पिलर खड़े कर टीन डालने के कार्य में निर्माण एजेंसी द्वारा वेल्डिंग के कार्य में खुलेआम एलपीजी के घरेलू गैस सिलेंडर का उपयोग किया जा रहा है। इधर कार्य की गति से आशंका है कि सभामंडप निर्माण से श्रावण मास में दिक्कत हो सकती है। मंदिर प्रबंध समिति को श्रद्धालुओं के प्रवेश के लिए नई कार्ययोजना बनानी पड़ सकती है।

यूडीए के अनुसार सभामंडप के रूप में महाकाल मंदिर में कंपोजिट श्रेणी स्ट्रक्चर तैयार किया जा रहा है। इसमें लोहे और कांक्रीट का उपयोग किया जाएगा। एजेंसी द्वारा लोहे के पिलर खड़े कर उस पर टीन लगाए जा रहे हैं इन्हें गैस वेल्डिंग से जोड़ा जा रहा है। गैस वेल्डिंग में निर्माण एजेंसी द्वारा एलपीजी के घरेलू सिलेंडर का उपयोग किया जा रहा है। नियमानुसार एेसे कार्य में तो व्यावसायिक सिलेंडर का उपयोग होना चाहिए। मंदिर सूत्रों के अनुसार गत दिनों रेल मंत्री और मुख्यमंत्री के अलावा अन्य वीआइपी आगमन के दौरान घरेलू सिलेंडर को कार्य स्थल से हटा लिया गया था।

समय पर कार्य में संशय

सभामंडप निर्माण कार्य की गति को देखते हुए इसके समय पर पूर्ण होने हो लेकर संशय है। सभामंडप का निर्माण २.१८ करोड़ रुपए की लागत से किया जा रहा है। दिसंबर २०१७ में कार्य की शुरुआत कर इसे १ वर्ष में पूर्ण करने का लक्ष्य रखा गया है। एजेंसी ने लोहे के पिलर खड़े कर टीन डाल दिए हैं। 28 जुलाई से श्रावण शुरू होगा। निर्माण कार्य की धीमी गति के चलते श्रावण के पहले इसका आधा काम भी पूरा नहीं होगा। एेसे में श्रावण में श्रद्धालुओं के प्रवेश को लेकर मंदिर प्रबंध समिति को नई योजना पर विचार करना पड़ सकता है। हालांकि यूडीए के अधिकारियों का कहना है कि श्रावण के पहले पहली मंजिल पर छत डालने जितना काम हो जाएगा। श्रावण में श्रद्धालुओं के लिए यह मार्ग चालू हो सकता है।

Show More
Gopal Bajpai Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned