दूध और शकर की तरह मिलकर रहें सभी, तभी आपसी सामाजिक समरसता की मिठास घुली रहेगी

दूध और शकर की तरह मिलकर रहें सभी, तभी आपसी सामाजिक समरसता की मिठास घुली रहेगी
upper caste,Ujjain,nagda,

Gopal Swaroop Bajpai | Publish: Jan, 15 2019 08:02:03 AM (IST) Ujjain, Ujjain, Madhya Pradesh, India

सवर्णों को 10 प्रतिशत आरक्षण व व्यापारियों को जीएसटी में बड़ी राहत देने पर व्यापारियों द्वारा आयोजित स्वागत में बोले केंद्रीय मंत्री गेहलोत

नागदा. दो दिनों में दोनों सदनों में सवर्ण समाज को आरक्षण देने वाले बिल को पास कर इतनी जल्दी कानून बनाकर उसे अपनी दृढता का परिचय दिया है। हम जनसंघ के समय से इसके पक्षधर रहे और मांग उठाते रहे, लेकिन पूर्ववत्सित सरकारों ने हमारी मांग को अव्यवहारिक मानकर इसे हमेशा दरकिनार किया था। हम देश में सामाजिक समरसता चाहते है। हम चाहते है कि देश के अगड़े पिछड़े सभी समाज दूध व शक्कर की तरह रहें, तभी देश सामाजिक समरसता की मिठास घुली रहेगी और देश परम वैभव पर पहुंचेगा। यह बात केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री डॉ. थावरचंद गेहलोत ने नागदा व्यापारी संघ की अगवाई में विभिन्न संगठनों द्वारा आयोजित स्वागत समारोह में कही। दरअसल गरीब सवर्णों को आर्थिक आधार पर 10 प्रतिशत आरक्षण देने का मसौदा केंद्रीय मंत्री डॉ. गेहलोत ने ही तैयार कर सरकार की ओर से इसे लोकसभा व राज्यसभा में रखा था, साथ ही व्यापारियों को राहत देते हुए जीएसटी की सीमा बढ़ाते हुए इसे 20 की जगह 40 लाख करने, कम्पोजिशन स्कीम में सीमा 75 से बढ़ाकर डेढ़ करोड़ तथा व्यापारियों को अकाउंटिंग के सॉफ्टवेयर नि:शुल्क प्रदान करने के सरकार के फैसले में डॉ. गेहलोत की बड़ी भूमिका रही है। केंद्रीय मंत्री गेहलोत ने कहा कि 10 प्रतिशत गरीब सवर्णों के लिए गए आरक्षण पर केंद्र सरकार ने अमल शुरू कर दिया है। सभी केंद्रीय नौकरियों व केंद्रीय इंस्टीट्यूट में ये आरक्षण लागू हो गया है। अब राज्य सरकारों को भी अपने-अपने राज्यों में प्रावधान कर गरीब सवर्णों को राज्य सरकार की नौकरियों व इंस्टीट्यूट में इसका लाभ देना चाहिए।
इस अवसर पर बंशी पोरवाल, अशोक जैन, योगेश शुक्ला, दिलीप सोनगरा, अन्नु शर्मा, बाबूलाल धनोतिया, सजन बंका, ओमप्रकाश तंवर, रसमन जैन, जाबिर भाई, सत्यनारायण मेहता, ईश्वर पोरवाल, गोन्टू पोरवाल, वीरेन्द्र सकलेचा, भैरूलाल जैन, सुरेश माहेश्वरी, प्रेम पोरवाल, मुस्तफा भाई, जाबिर भाई, प्रकाश पोरवाल, जगदीश मेहता, मनीष पोरवाल, बसंतीलाल कोठारी, दशरथ राठौर, विकास पोरवाल, नीरज शर्मा, धर्मेन्द्र फरनाखेड़ी, शिवनारायण सोलंकी, दिलीप चौरसिया, दीपक जोशी, विजय मेहता, रवि चौहान, आशीष वोरा, राजेश गगरानी, हरीश अग्रवाल, भंवर पोरवाल, कमलेश दवे, रमेश प्रजापत, महेश देव, भगवान पोरवाल, ओम पोरवाल एवं व्यापारीगण मौजूद थे।
कई बार कड़े कदम देश हित में उठाना जरूरी होते हैं
गेहलोत ने कहा कि कई बार कड़े कदम देशहित में उठाना जरूरी होते है। जीएसटी भी वैसा ही कदम था, लेकिन व्यापारियों के सुझाव पर इसमें लगातार बदलाव कर इसे पुरी तरह व्यवहारिक मनाया जा रहा है। गेहलोत ने कहा कि जीएसटी की सीमा बढ़ाकर 20 लाख से 40 लाख करने पर सरकार को नुकसान है, लेकिन व्यापारियों को फायदा देने के लिए ये निर्णय लिया गया है।
किसानों के लिये सरकार गंभीर : मंत्री गहलोत
आयोजन के दौरान उपज बेचने के बाद किसानों को नकद भुगतान के लिए होने वाली परेशानियों पर गेहलोत ने कहा कि किसानों की समस्याओं को लेकर सरकार संजिदा है। विशेष अतिथि के रूप में पूर्व विधायक दिलीपसिंह शेखावत, मंडल अध्यक्ष राजेश धाकड़, धर्मेश जायसवाल, अशोक मावर उपस्थित थे। संघ की ओर से नागदा व्यापारी संघ संयोजक दिलीप कांठेड, उन्हेल किराना व्यापारी संघ के अध्यक्ष सतीश मारु, खाद बीज एसोसिएशन अध्यक्ष रमेश मोहता, प्रेस क्लब संरक्षक प्रफुल्ल शुक्ला, सद्भावना मंच के गिरधारीसिंह शेखावत, कौमी एकता से फय्याज लाला, अनाज व्यापारी संघ के राधेश्याम पोरवाल, बिल्डिंग मटेरियल संघ अध्यक्ष हनुमान प्रसाद शर्मा ने उद्बोद्धन दिया। संचालन प्रकाश जैन ने किया एवं आभार संघ संरक्षक दिनेश अग्रवाल ने माना। कार्यक्रम के अंत में स्वल्पाहार एवं चाय की व्यवस्था रखी गई थी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned