scriptWater Harvesting: Know how you can secure the future from the roof | वॉटर हार्वेस्टिंग:जानिए घर की छत से कैसे सुरक्षित कर सकते हैं भविष्य | Patrika News

वॉटर हार्वेस्टिंग:जानिए घर की छत से कैसे सुरक्षित कर सकते हैं भविष्य

पत्रिका अभियान:बचाए अपने हिस्से का पानी- सालभर जितनी जरूरत, सिर्फ छत से ही चार महीने में जमा कर सकते हैं उससे दो गुना पानी

उज्जैन

Updated: June 25, 2022 09:45:04 pm

उज्जैन. सामान्य स्थिति में एक व्यक्ति को दैनिक आवश्यकताएं पूरी करने के लिए औसत १३५ लीटर पानी की जरूरत होती है। मसलन एक वर्ष में लगभग ५० हजार लीटर। इससे दो गुना पानी बारिश के सीजन में सामान्य घर की छत से बेजा बह जाता है। स्पष्ठ है कि यदि अपनी ही छत पर गीरे पानी को सहेज लिया जाए तो हम आसानी से पानी की अपनी जरूरत पूरी कर लेंगे।

Water Harvesting: Know how you can secure the future from the roof
पत्रिका अभियान:बचाए अपने हिस्से का पानी- सालभर जितनी जरूरत, सिर्फ छत से ही चार महीने में जमा कर सकते हैं उससे दो गुना पानी

बारिश का मौसम हमें सालभर का पानी देकर जाता है। इसके बावजूद अमूमन हर गर्मी में शहर को छोटे-बड़े जलसंकट की स्थिति से गुजरना पड़ता है। हर साल की परेशानी का बड़ा कारण वर्षा जल को पर्याप्त मात्रा में नहीं सहेजना है। विशेषज्ञों के अनुसार रूफ वॉटर हार्वेस्टिंग के जरिए यदि हम अपने घर की छत पर आने वाले बारिश के पानी को ही जमीन के अंदर तक पहुंचा दें तो चार महीने में सालभर का पानी आसानी से स्टोर कर सकते हैं। जरूरत सिर्फ एक छोटी-सी पहल करने की है।

एक सेंटीमीटर बारिश में ही सामान्य छत देती है एक हजार लीटर पानी

बारिश का पानी सहेजने के लिए घर की छत एक बड़े पात्र के रूप में उपयोग की जा सकती है। आंकलन अनुसार एक हजार वर्ग फीट बड़ी छत पर यदि एक सेंटीमीटर बारिश भी होती है तो रूफ वॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम से एक हजार लीटर पानी संग्रहित किया जा सकता है। उज्जैन में औसत ३६ इंच से अधिक बारिश होती है। इस लिहाज से बारिश के एक सीजन में एक हजार वर्ग फीट बड़ी छत से लगभग एक लाख लीटर पानी संग्रहित हो सकता है। ऐसे में यदि शहर में एक हजार वर्ग फीट या इससे बड़ी छतों के सभी भवनों पर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाया जाए तो बचत आंकड़ा ४ अरब लीटर से अधिक पहुंच जाएगा।

पानी संग्रहण जरूरी क्योंकि ५१ फीट नीचे जा चुका जलस्तर

इस वर्ष मई में जिले का जलस्तर चिंता बढ़ाने वाला था। जिले का औसत भू-जल स्तर १५.५८ मीटर या नी ५१ फीट से अधिक नीचे जा चुका है। जिले में ऐसा कोई भी ब्लॉक नहीं है जहां भू-जल स्तर१४ मीटर से कम हो। जिले की यह स्थिति भविष्य के बड़े खतरे का संकेत हैं। ऐसे में वॉटर होर्वस्टिंग के विभिन्न तरीकों से बारिश के पानी को सहेजना और भी जरूरी हो गया है।

जिले में कहां कितनी नीचे पहुंचा पानी
ब्लॉक भू-जल स्तर
बडऩगर १६.६५
उज्जैन १५.००
घट्टिया १५.५०
महिदपुर १५.७५
खाचरौद १५.७६
तराना १४.८०
(आंकड़े मीटर में, स्थिति मई माह की)

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

नीतीश कुमार ने कहा, 'BJP ने हमेशा किया अपमानित, की कमजोर करने की कोशिश'JDU ने BJP से गठबंधन तोड़ने का किया ऐलान, RJD के साथ है प्लान तैयारBihar Political Crisis Live Updates: नीतीश कुमार- बीजेपी ने हमेशा अपमानित किया, थोड़ी देर में तेजस्वी संग पहुंचेंगे राजभवनGoogle: अमरीका के गूगल स्थित डेटा सेंटर में बड़ा हादसा,आग लगने से तीन कर्मचारी झुलसे, सेवाएँ बाधित होने की आशंकाकेजरीवाल का दावा- राष्ट्रीय पार्टी बनने से एक कदम दूर है AAP, किसी पार्टी को कैसे मिलता है राष्ट्रीय दल का दर्जा?40 साल के सियासी सफर में 17 साल से सत्ता में नीतीश कुमार, लेकिन पुराने सहयोगियों को कई बार दे चुके हैं दगाBJP के मंत्रियों के इस्तीफे पर सभी ने साधी चुप्पी, क्या खेल है अभी बाकी, या फिर पलट सकता है पासाताइवान का चीन समेत दुनिया को संदेश: चीन के सैन्य अभ्यास के तुरंत बाद ताइवान ने भी शुरू की Live Fire Artillery Drill, बज गए युद्ध के नगाड़े
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.