scriptworld first rakhi tied to lord mahakal only in brahma muhurta | Raksha Bandhan 2021 : सबसे पहले महाकाल को बांधी जाती है राखी, जानिये इसके पीछे का कारण | Patrika News

Raksha Bandhan 2021 : सबसे पहले महाकाल को बांधी जाती है राखी, जानिये इसके पीछे का कारण

सबसे पहले राखी भगवान महाकाल को बांधी जाती है। सख्त नियमों का पालन करते हुए महिलाएं ये राखी अपने हाथों से करती हैं तैयार।

उज्जैन

Updated: August 22, 2021 10:41:17 am

उज्जैन. आज भाई बहन के पवित्र रिश्ते का त्योहार रक्षाबंधन है। दुनियाभर में आज के दिन बहन अपने भाई को राखी बांधती है। लेकिन, क्या आप जनते हैं? रक्षाबंधन पर्व पर सबसे पहली राखी भगवान महाकाल को पहनाई जाती है। ये राखी तैयार करने और पहनाने वाली महिलाएं पूरे सावन माह में व्रत-उपवास रखती हैं। कई सख्त नियमों का पालन करके करीब एक सप्ताह की कड़ी मेहनत के बाद बाबा महाकाल को ध्यान में रखते हुए राखी तैयार करती हैं।

Raksha Bandhan 2021
Raksha Bandhan 2021 : सबसे पहले महाकाल को बांधी जाती है राखी, जानिये इसके पीछे का कारण

खास बात ये है कि, इस राखी को बनाने में सिर्फ हाथों का ही इस्तेमाल किया जा सकता है। यानी राखी बनाने में कही भी मशीन का उपयोग नहीं किया जा सकता। इसके अलावा, भगवान महाकाल को भाई मानने वाली ये महिलाएं, जितने समय भी राखी का निर्माण करती हैं, उस हर समय उन्हें मंगल गान गाते हुए राखी तैयार करना होती है। ये महिलाएं राखी बनाने वाले दिनों में व्रत में रहती हैं। महाकाल को राखी बांधने के बाद वहां से मिलने वाले प्रसाद से ही व्रत खोलती हैं। राखी बांधने की ये परंपरा कई वर्षों से चली आ रही है। पुजारी के घर की महिलाएं ही महाकाल को राखी बांधा करती है।

राखी बंधने के साथ महाकाल की भस्मारती

dd.png

सबसे पहले महाकाल को रांखी बांधने की परंपरा

पिछले दो सालों से कोरोना संकट के चलते गाइडलाइन का पालन करते हुए महाकाल के गर्भगृह में सिर्फ पुजारियों को प्रवेश की अनुमति है। वहीं, ये अखंड परंपरा भी है, ऐसे में कलेक्टर आशीषसिंह द्वारा सिर्फ पुजारी परिवार की महिलाओं को भगवान महाकाल को राखी बांधने के लिए विशेष अनुमति दी है। महाकाल के पुजारी आशीष शर्मा के अनुसार, विश्वभर में सबसे पहले महाकाल को राखी बांधी जाती है। इतनी जल्दी राखी बांधने की परंपरा और कहीं नहीं है।

पढ़ें ये खास खबर- Raksha Bandhan 2021 : महाकाल को अर्पित की पहली राखी, 11 हजार लड्डुओं का भोग लगा, आप भी करें लाइव दर्शन


तीन साल में एक बार राखी बांधने का सौभाग्य

महाकाल मंदिर में कुल जनेऊ पाती और खूंट पाती परिवार के 16 पुजारी हैं। हर परिवार को छह-छह माह के लिए भस्मारती का प्रभार होता है। जो परिवार सावन के दिनों में भस्मारती करते हैं, केवल उनके ही परिवार की महिलाओं और बहनों को ही महाकाल को गर्भगृह में जाकर राखी पहनाने की अनुमति होती है। इस बार संजय पुजारी व अजय पुजारी की ओर से भस्मारती की जा रही है, इसलिए इस बार उनके परिवार की 5 महिलाएं ममता शर्मा, उमा शर्मा, मनु शर्मा, मुदिता शर्मा और अदिति शर्मा ही इस बार सबसे पहले महाकल को राखी बांध सकेंगी। यानी तय व्यवस्था के अनुसार, एक परिवार की महिला को तीन साल में एक बार भगवान महाकाल को राखी बांधने का सौभाग्य मिलता है।

पढ़ें ये खास खबर- Raksha Bandhan 2021 आज का पंचांग, 22 अगस्त 2021: आज है रक्षा बंधन, जानें शुभ और अशुभ समय


इस तरह तैयार की जाती है राखी

सावन महीने को पवित्र मास माना जाता है। राखी तैयार करने और पहनाने वाली महिलाएं पूरे माह व्रत रखती हैं। कुछ महिलाएं तो हरी सब्जियां और पसंदीदा व्यंजन भी नहीं खातीं। राखी तैयार करने में पूरे परिवार को ही जुटना प़ड़ता है। भगवान की राखी का सभी सामान भी कीमती होता है। राखी तैयार करने के सामान का बहनें बहुत श्रद्धा और भक्तिभाव से चयन करती हैं।

पढ़ें ये खास खबर- Raksha Bandhan 2021 सावन की पूर्णिमा पर आज रहेगा ब्लू मून


रात 2 बजे पहुंचना होता है मंदिर

महाकाल को राखी बांधने के लिए पुजारी परिवार की महिलाएं देर रात 2 बजे ही महाकाल दरबार में पहुंच जाती हैं। वे राखी बांधने के दौरान मंत्रोच्चारण भी करती हैं। मनु शर्मा बताती हैं कि, ये हमारा सौभाग्य है कि, इस बार विश्व में सबसे पहली राखी भगवान भोलेनाथ को बांधने का हमें सौभाग्य मिला। राखी बांधने के बाद बाबा महाकाल से कुछ मांगा भी जाता हा, तो इस बार हम बहनों ने विश्व कल्याण की कामना तो की ही. साथ ही कोरोना से मुक्ति की भी प्रार्थना की है। राखी बांधने के के बाद महाकाल से मिले प्रसाद सभी महिलाएं अपना व्रत खोलती हैं। इसके बाद ये महिलाएं अपने परिवार के भाइयों को राखी बांध सकती हैं।

रक्षाबंधन पर गुलजार हुए बाजार, देखें Video

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

School Holidays in February 2022: जनवरी में खुले नहीं और फरवरी में इतने दिन की है छुट्टी, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालइन 4 तारीखों में जन्मी लड़कियां पति की चमका देती हैं किस्मत, होती है बेहद लकी“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीमां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतजैक कैलिस ने चुनी इतिहास की सर्वश्रेष्ठ ऑलटाइम XI, 3 भारतीय खिलाड़ियों को दी जगहकम उम्र में ही दौलत शोहरत हासिल कर लेते हैं इन 4 राशियों के लोग, होते हैं मेहनतीइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

Delhi: गैंगरेप के बाद युवती के काटे बाल, चेहरे पर कालिख पोत कर गलियों में घुमाया, जानिए क्या बोले सीएमराहुल गांधी ने फॉलोवर्स सीमित होने पर Twitter पर लगाया सरकार के दबाव में काम करने का आरोप, जानिए क्या मिला जवाबहाथी ने श्रमिक को कुचला झारखंड में नक्सलियों ने ब्लास्ट कर उड़ाया रेलवे ट्रैक, राजधानी एक्सप्रेस सहित कई ट्रेनों का रूट बदलाBudget 2022: इस साल भी पेश होगा डिजिटल बजट, जानें कैसे होगी छपाईUP Election 2022: प्रचार करने आए भाजपा के एक और उम्मीदवार को स्थानीय लोगों ने भगायाUP Election 2022 : अखिलेश को फिर बड़ा झटका, सपा विधायक हाजी इकराम कुरैशी ने थामा कांग्रेस का दामनUP Assembly Elections 2022: PM Narendra Modi के गढ़ में BJP को घेरने में जुटी सपा सुभासपा संग TMC जानें क्या है रणनीत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.