युवक व बकरी की लाश कुएं सेे मिली

चार दिन से थे लापता, पुलिस कर रही जांच

By: Gopal Bajpai

Published: 19 Jan 2019, 08:02 AM IST

नागदा. भाटपचलाना थाना क्षेत्र स्थित गांव पटोनिया खेता निवासी 45 वर्षीय दुलेसिंग भैरूसिंह गत 14 जनवरी को 15-20 बकरियों को जंगल में चराने गया था, लेकिन उसके बाद वह घर नहीं लौटा। शुक्रवार की सुबह चामुंडा माता मंदिर के पास बने बाल हनुमान मंदिर के पीछे की ओर बने एक कुएं से उसकी लाश मिली है। दुलेसिंग के साथ एक बकरी भी गायब थी वह भी उसी कुएं में मृत अवस्था मिली है। पुलिस ने दोनों को कुएं के बाहर निकाल कर मर्ग कायम कर मामले की जांच में जुट गई है। मृतक कुछ दिन पूर्व ही अपने गांव से नागदा आकर रतलाम फाटक स्थित शिवपुरा क्षेत्र में अकेला रह रहा था। आजीविका चलाने के लिए मृतक क्षेत्र के कुछ लोगों की बकरियों को चराने का काम करता था।
मिली जानकारी के अनुसार मृतक रोजाना की तरह 14 जनवरी को 15-20 बकरियों को लेकर जंगल गया था, लेकिन शाम को वापस नहीं लौटा। बकरी मालिकों ने उसे शहर के आसपास के इलाकों में ढूंढने पर ज्यादातर बकरियां जंगल में लावारिस हालत में मिल गई, लेकिन चरवाह दुलेसिंग और एक बकरी नहीं मिले थे। शुक्रवार सुबह कुछ लोगों ने चामुंडा माता मंदिर से कुछ दूरी पर स्थित बाल हनुमान मंदिर के पास वाले कुएं में बकरी की लाश को देखा और पुलिस को सूचना दी। मंडी पुलिस ने मृत बकरी को जैसे ही कुएं में से बाहर निकाला तो लापता दुलेसिंह की लाश भी पानी में तैरते नजर आ गई। शव का पीएम करवा कर परिजनों को सौंप दिया है।
जांचकर्ता सब इंस्पेक्टर जीवनसिंह का कहना है कि प्रथम दृष्टया में मामला दुर्घटना का प्रतीत होता है। आशंका है कि पहले बकरी कुएं में गिरी होगी जिसे बचाने के लिए मृतक भी कुएं में उतरा या गिर गया होगा और तैरना नहीं जानने की वजह से वह कुएं के पानी से बाहर नहीं निकल सका और उसकी जान चली गई, हालांकि मामले में पुलिस ने मर्ग कायम कर मौत के कारणों का पता लगाने में जुट गई है। घटनास्थल से पुलिस को मृतक के जूते, टिफिन और एक लकड़ी भी मिली है।

Show More
Gopal Bajpai Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned