चैत्र नवरात्र: ज्वालाधाम में आराधना, भक्तों के प्रवेश पर रोक

जवारा स्थापना आज

By: ayazuddin siddiqui

Published: 27 Mar 2020, 09:00 AM IST

उमरिया. उमरिया जिले के उचेहरा गांव में स्थित माँ ज्वालाधाम में चैत्र नवरात्र पर्व के दौरान भारी सुरक्षा व्यवस्था के साथ माँ की पूजा आराधना की जा रही है। कोरोना वायरस के प्रभाव को देखते हुए मन्दिर प्रबंध समिति और प्रशासन ने मन्दिर में भक्तों के प्रवेश पर रोक लगा रखी है। जिससे यहां लोग नही जा रहे है। यदि कोई भक्त आता भी है तो वह द्वार से ही पूजा आराधना कर लौट जाता है। ज्वालाधाम मन्दिर के पुजारी भंडारी जी ने बताया कि माँ की पूजा आराधना भोग आदि सुबह और शाम को किया जाता है जिसमे किसी को भी मन्दिर में प्रवेश नहीं दिया जाता। उन्होंने बताया कि माता ज्वाला के दरबार मे प्रत्येक नवरात्र को हजारों कलश स्थापित किये जाते थे लेकिन इस बार कोरोना वायरस के प्रकोप को लेकर करीब 2 सौ कलश आज 27 मार्च को स्थापित किये जायेंगे। जिन्हें 4 अप्रैल विसर्जन के दिन मन्दिर प्रबंध समिति के द्वारा विसर्जित किया जाएगा। बताया गया है कि शासन प्रशासन के निर्देश उपरांत सभी श्रद्धालुओ से अपील की गई थी कि सभी अपने अपने घरों से ही माँ की आराधना करेंगे जिससे मन्दिर प्रांगण में न के बराबर भक्तजन पहुँच रहे है।
उल्लेखनीय है कि उमरिया जिले के उचेहरा गांव में स्थित माँ ज्वालाधाम देश प्रदेश में अपनी महिमा के कारण विख्यात है। भक्तों का मानना है कि यहाँ जो भी मुराद मांगी जाए वह मातारानी पूरा करती है। गौरतलब है कि मन्दिर में शांति सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर पुलिस अधीक्षक सचिन शर्मा के निर्देशन व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रेखा सिंह के मार्गदर्शन में पुलिस बल भी तैनात किया गया है जो मन्दिर प्रांगण के मुख्य द्वार में अपनी सेवाएं दे रहे है। उल्लेखनीय है कि मन्दिर प्रांगण में मनोकामना जवारों की स्थापना उन्ही भक्तों के नाम से की जा रही है जिनके द्वारा कलश स्थापना की अग्रिम रसीद कटाई गई थी।

Show More
ayazuddin siddiqui
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned