कुपोषित बच्चों के घर पहुंचेे कलेक्टर

एनआरसी में भर्ती करने दी समझाइश
कलेक्टर ने कछरवार में लगाई चौपाल

उमरिया. आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम के तहत कलेक्टर स्वरेाचिश सोमवंशी ने करकेली जनपद पंचायत के ग्राम पंचायत कछरवार में चौपाल लगाकर ग्रामीणों से शासन द्वारा संचालित योजनाओं का फीड बैक प्राप्त किया तथा उनसें समस्याओ के संबंध में जानकारी प्राप्त की। कलेक्टर ने चौपाल में फौती नामांतरण, बंटवारा, सीमांकन, नक्सा तरमीम के लंबित प्रकरणों की जानकारी प्राप्त की। राजस्व अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे अपना दौरा कार्यक्रम जारी करें तथा पंचायत मे बैठ कर राजस्व प्रकरणों का 15 दिन के भीतर निराकरण करें। पूरे जिले में राजस्व प्रकरण निराकरण शून्य तक लाये जानें का अभियान संचालित किया जाए। इसी तरह ग्रामीण विकास कार्यक्रम के तहत संचालित कार्यो की जानकारी प्राप्त की तथा पंचायत सचिव को लेबर बजट का शत प्रतिशत लक्ष्य प्राप्त करने के निर्देश दिए। सचिव द्वारा बताया गया कि पंचायत में मनरेगा योजना के तहत तालाब निर्माण कराया जा रहा है। कलेक्टर ने प्रधानमंत्री आवास योजना, विभिन्न प्रकार की पेंशन योजनाओं, बीपीएल कार्ड तथा खाद्यान्न वितरण एवं प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि की भी समीक्षा की। भ्रमण के दौरान एसडीएम बांधवगढ़ अनुराग सिंह, तहसीलदार दिलीप सिंह सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे। कलेक्टर ने शंकुतला सिंह जिनके पति ध्यान सिंह सीआरपीएफ में सेवारत थे तथा उनकी मृत्यु हो चुकी है जो वर्ष 2001 से अपना आवास वन भूमि में बनाकर रह रहीं है का वनाधिकार अधिनियम के तहत दावा प्राप्त करने के निर्देश दिए। तहसीलदार को इन्हें खेती योग्य भूमि भी आवंटित करने के निर्देश दिए। चौपाल में पंचायत सचिव द्वारा बताया गया कि ग्राम पंचायत में जाब कार्ड धारक 384 हैं जिनमें से 324 सक्रिय हैं। प्रधानमंत्री आवास के तहत 3 आवास स्वीकृत है। स्वच्छ भारत के तहत 351 शौचालय बनाये गये हैं। यह ग्राम पंचायत ओडीएफ घोषित की जा चुकी है। वन अधिकार अधिनियम के तहत सात दावे प्राप्त हुए थे, जिनमें से दो पात्र पाए गए है। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि का लाभ 228 किसानों को मिल रहा हैं। ग्राम में दो आंगनबाडी केंद्र संचालित हैं जिनमें 70- 70 बच्चे दर्ज है। प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत 51 महिलाएं तथा लाडली लक्ष्मी योजना के तहत 90 हितग्राही लाभान्वित हुए हैं। ग्राम पंचायत में 34 महिलाओं को प्रसव सहायता का लाभ मिला हैं । 21 महिलाएं गर्भवती हैं जिनमे ंसे 3 हाई रिस्क में है। जिनका उपचार किया जा रहा है। ग्राम कछरवार में संचालित हाई स्कूल का गत वर्ष का परीक्षा परिणाम 62 प्रतिशत रहा है। इस वर्ष परीक्षा परिणाम सुधरवाने हेतु अतिथि शिक्षकों के माध्यम से अंग्रेजी एवं गणित की पढाई कराई जा रही है। ग्रामीणों द्वारा बताया गया कि उचित मूल्य की दुकान से माह की 21 तारीख के बाद जो कार्डधारक अनाज नही ले पाते है उन्हें विक्रेता द्वारा अनाज नहीं दिया जाता हैं। जिस पर कलेक्टर ने विक्रेता को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। ग्राम की सुखमंती 60 वर्ष ने बताया कि उनके पति गया प्रसाद तीन वर्ष से लापता हैं। उन्हें आजीविका की समस्यां है। कलेक्टर ने पटवारी को विशेष प्रकरण बनाकर पेंशन स्वीकृति हेतु भेजने के निर्देश दिए। इस अवसर पर कलेक्टर ने प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के हितग्राहियों से गैस सिलेण्डर के द्वारा उपयोग के संबंध में भी जानकारी प्राप्त की। ग्रामीणों ने बताया कि उनकें यहां दो साल से ट्रांसफार्मर खराब हैं तथा वह कल्लू रैदास की बाडी में लगाया गया है जिसे मेन रोड में लगाया जाए। इसी तरह कलेक्टर ने ग्राम कछरवार में मुक्ति धाम के लिए रोड की व्यवस्था के संबंध में तहसीलदार को निर्देश दिए। बच्चों का कुपोषण समाज के लिए कलंक हैं। कुपोषण का शत प्रतिशत निराकरण करने ंके लिए संबंधित विभाग के अधिकारी रणनीति बनायें तथा उन पर अमल करते हुए बच्चों को कुपोषण से बाहर लाये। कलेक्टर ने यह बात ग्राम पंचायत कछरवार में आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम के तहत आयोजित चौपाल के दौरान महिला बाल विकास एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को दिए। ग्रामीणों द्वारा बताया गया कि गांव के पांच बच्चें कुपोषण की श्रेणी मे है जिन्हें पूर्व में एनआरसी में भर्ती भी कराया गया था। अब वे पुन: कुपोषण की श्रेणी में चले गये हैं। कलेक्टर ने एएनएम , अंागनबाडी कार्यकर्ता तथा पंचायत सचिव को निर्देशित किया कि ऐसे परिवारों तथा बच्चों एवं माताओं की नियमित मानीटरिंग की जाए तथा उन्हें कुपोषण से बाहर लाने के लिए हर संभव प्रयास किए जाए। कलेक्टर ने अति कुपोषित चार वर्षीय स्वर्ण लता वजन 10 किलो ग्राम था जिसका वजन 12 किलो ग्राम होना चाहिए , के माता पूजा रजक तथा पिता सुशील रजक के घर जाकर मुलाकात की। उन्होंने अभिभावकों को कुपोषित बच्चे को एनआरसी मे भर्ती करानें तथा वहां के चिकित्सकों द्वारा बताई गई डाईट के अनुसार बच्चें को पौष्टिक भोजन देने की समझाइश दी। इसी तरह एक वर्षीय आकृति प्रजापति की मां अंजू प्रजापति तथा पिता पुष्पेंद्र प्रजापति को भी बच्चे की देख रेख करनें , एन आर सी में भर्ती करानें एवं पौष्टिक डाईट देने की समझाइश दी। इस अवसर पर सीएमएचओ डॉ. राजेश श्रीवास्तव, जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला बाल विकास शांति बेले, एसडीएम अनुराग सिंह, कार्यपालन यंत्री लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी एबी निगम, तहसीलदार दिलीप सिंह तथा अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

ayazuddin siddiqui
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned