सपूत के अंतिम दर्शन न कर पाने से नाराजगी

मेजर पुष्पेंद्र का रांची में हुआ अंतिम संस्कार

By: Shahdol online

Published: 12 Nov 2017, 04:43 PM IST

उमरिया. शनिवार की सुबह 11 बजे झारखंड रांची में मेजर पुष्पेन्द्र सिंह चौहान का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई इस अवसर पर उनके परिवार के लोग एवं सेना के अधिकारी भी उपस्थित रहे। क्षत्रिय महासभा के द्वारा पुष्पेन्द्र सिंह चौहान के गांव देवगवां जाकर शोक संतत्व परिवार से मिलकर विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित कर इस दुखद घड़ी में असीम दुख सहने की कामना भी की। मेजर पुष्पेन्द्र सिंह चौहान के निधन पर श्रद्धांजलि अर्पित करते वे कहा कि एक बहादुर सेना के जवान को श्रद्धांजलि यह है कि वह हमेशा अमर रहेगा। साथ ही उमरिया कलेक्टर माल सिंह, पुलिस अधीक्षक डॉ. असित यादव, एसडीएम मानपुर सहित भारी संख्या में प्रशासनिक दस्ता व नागरिक देवगवां पहुंचकर दुखी परिवार से मिलकर सभी ने अपनी सहानुभूति प्रकट की।
इस अवसर पर जनप्रतिनिधि भी मौजूद रहे। वहीं दूसरी ओर स्थानीय लोगों का यह कहना था कि मेजर का अंतिम दर्शन भी गांव वालों को नसीब नहीं हुआ और उसका अंतिम संस्कार रांची में ही करा दिया गया इस बात से क्षुब्ध होकर अमरपुर थाने के सामने तिराहे पर शहीद मेजर के पिता जयराज सिंह एवं उनके दादा विश्वनाथ सिंह सहित कई परिजन एवं वरिष्ठ कांग्रेसी नेता लल्लू सिंह सहित स्थानीय ग्रामीण धरने पर बैठे। उनकी मांग यह थी कि रांची स्थित उनके अंतिम संस्कार कार्यक्रम में शहीद मेजर की पत्नी मीनाक्षी सिंह एवं उनके पुत्र हिमांशु सिंह, पुत्री छवि सिंह, भाई योगेन्द्र सिंह, राजेन्द्र सिंह, राघवेन्द्र सिंह, रावेन्द्र सिंह, सत्यभामा सिंह, मनोज सिंह, चितरांव निवासी राजन सिंह सहित कई लोग गये हुये हैं। उनके मोबाइल बंद होने से सांथ ही उनका पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार रांची में किये जाने पर ग्रामीणों ने आक्रोश रहा जिसे लेकर ग्रामीण धरने पर बैठे। प्रशासन के समझाइश के बाद स्थिति को काबू किया गया। अधिकारियों की समझाइश के बाद ग्रामीणों का गुस्सा शांत हुआ और उन्होंने विरोध करना बंद किया।

Shahdol online
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned