जेल में आने वाले हर मुल्जिम की अपराध संबंधी रखें जानकारी

जेल में आने वाले हर मुल्जिम की अपराध संबंधी रखें जानकारी

Amaresh Singh | Publish: Apr, 17 2019 05:19:36 PM (IST) Umaria, Umaria, Madhya Pradesh, India

मध्यप्रदेश मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष एवं सदस्य ने किया जिला जेल का निरीक्षण

उमरिया। मध्यप्रदेश मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष न्यायमूर्ति नरेंद्र कुमार जैन एवं सदस्य ममतानी द्वारा आज जिला जेल का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने विभिन्न बैरकों में जाकर कैदियों से उन्हें मिल रही सुविधाओं की जानकारी प्राप्त की। न्यायमूर्ति नरेंद्र कुमार जैन ने जेल अध्ीक्षक एम एस मरावी को निर्देशित किया कि जेल में आने वाले हर मुल्जिम की अपराध संबंधी जानकारी रखे। जिन कैदियों को जमानती धाराओं पर जेल भेजा गया है उनके संबंध में माननीय न्यायालय से जमानत देने हेतु अनुरोध करें। मुल्जिम की जेल में आवक के पश्चात स्वास्थ्य परीक्षण अवश्य कराया जाए तथा उसका रिकार्ड भी संधारण किया जाए। भ्रमण के दौरान अपर कलेक्टर दिनेश मौर्य, एसडीएम बांधवगढ नीलांबर मिश्रा, अनुविभागीय पुलिस अधिकारी राम खेलावन शुक्ला, जेल अधीक्षक एम एस मरावी, डा प्रमोद द्विवेदी सहित जेल स्टाफ उपस्थित रहे।
मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष न्यायमूर्ति नरेंद्र कुमार जैन ने प्रतिकार निधि से कैदियों को दी जाने वाली राशि के ंसबंध में जानकारी प्राप्त की। साथ ही जिन कैदियों की पैरवी हेतु स्वयं के वकील उपलब्ध नही हैं उन्हें शासकीय अधिवक्ताओ के माध्यम से विधिक सेवा उपलब्ध करानें के निर्देश दिए। मानवाधिकार आयोग के सदस्यों द्वारा जिला जेल में वीडियो कान्फे्रंस कक्ष, अनाज गोदाम, अनाज की गुणवत्ता, चिकित्सा व्यवस्था आदि का निरीक्षण किया गया।

कैदियों के लिए भोजन तैयार करने के संबंध में जानकारी ली
मानवाधिकार आयोग के सदस्य मनोहर ममतानी ने कैदियों के लिए भोजन तैयार करने के संबंध में जानकारी भी ली। आपने कहा कि जिन बंदियो की अपील उच्च न्यायालय में लंबित है की केस फाइल नंबर से अद्यतन जानकारी नेट के माध्यम से प्राप्त कर कैदियों को अवगत कराए। प्रथम बार जेल आने वाले कैदियों की एचआईव्ही जांच अवश्य की जाए। सभी कैदियों के स्वास्थ्य रिकार्ड संधारित किए जाए। जेल अधीक्षक एम एस मरावी ने बताया कि जिला जेल उमरिया में एक भी महिला कैदी नहीं है । वर्तमान में 158 बंदी है। जिसमें 34 सजायाफ्ता तथा 124 ट्रायल में है। चिकित्सक माह में 10 दिन अपनी सेवाएं देते है। आकस्मिक जरूरत पर उनकी सेवाएं कैदियो को प्राप्त होती है। जेल आने वाले प्रत्येक कैदी की सामान्य स्वा. जांच जैसे ब्लड की जांच, शुगर , ब्लड प्रेशर की जांच की जाती है। गंभीर बीमारी होने पर कैदियों को मेडिकल कालेज रीवा के लिए रेफर किया जाता है। वर्तमान में एक कैदी मानसिक रोगी हैं। जिला जेल उमरिया में क्षमता के अनुरूप ही कैदी निरूद्ध है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned