डिजिटल क्रांति के युग में सजग रहना जरूरी

पुलिस अधीक्षक के निर्देशन में चलाया गया जागरुकता अभियान

By: ayazuddin siddiqui

Published: 10 Apr 2019, 10:00 AM IST

नौरोजाबाद. जिले में बढ़ रहा साइबर क्राइम चिंता का विषय बनता जा रहा है। जिसे रोकने के लिए सार्थक कदम उठाने की आवश्यक्ता महसूस की जा रही है। जिले में लगातार बढ़ रहे साइबर क्राइम को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने थाना क्षेत्र के बैंक, एटीएम में जाकर ग्रामीणों और ग्राहकों को बैंक एटीएम, पिन व साइबर क्राइम से जुड़ी बातों को बताते हुए सतर्क रहने की बात कह रही है। पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर ऐसा किया गया। एसपी सचिन शर्मा का मानना है कि ग्रामीण परिवेश के लोगों को एटीएम पिन के महत्व को समझना आवश्यक है। डिजिटलाइजेशन के दौर में अपराध के नए तरीके अपराधियों ने निकाल लिए हैं। बैंक के नाम पर अपराधी ग्राहकों से पिन नंबर पूछ पैसा निकाल ले रहे हैं। ऐसे में जीवन भर की मेहनत की कमाई एक फोन कॉल में समाप्त हो जा रही है। ऐसे में पुलिस साइबर क्राइम के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए कमर कस चुकी है। इसके लिए अब जिले भर में अभियान चलाकर लोगों को साइबर क्राइम के संबंध में जानकारी दी जा रही है व इससे बचने के उपाय बताए जा रहे हैं।
चलाया गया अभियान
थाना क्षेत्र के एसबीआई शाखा में थाना प्रभारी आर.के धारिया ने ग्रामीण ग्राहकों को साइबर क्राइम का मतलब समझाया। उन्होंने बताया कि किस तरह अपराधी फोन कॉल के माध्यम से स्वयं को बैंक अधिकारी बताकर पिन नंबर प्राप्त कर लेता है, फिर संबंधित खाता की पूरी राशि निकाल लेता है। पुलिस ने थाना परिसर में भी लोगों को बैंक फ्रॉड के क्रियाकलापों के बारे में जानकारी दी। पुलिस अधिकारी ने बताया कि कोई कितने प्यार से पूछे न तो एटीएम के बारे में बताए और न ही इसका पिन नंबर बताएं। थाना प्रभारी ने खाताधारियों को साइबर क्राइम को बताते हुए साफ शब्दों में कहा कि किसी अपरिचित व्यक्ति के फोन कॉल पर खाता से संबंधित कोई बात नहीं करें। जहां तक संभव हो बैंक में पहुंचकर ही खाता से संबंधित कोई समस्या के बारे में में बैंक के प्रबंधक या संबंधित अधिकारी से बात करें। किसी भी परिस्थिति में अपना खाता की जानकारी न दें। पुलिस अधिकारी व कर्मचारियों ने जागरूकता को जगह-जगह पम्पलेट चस्पा किये, इसके अलावा एटीएम के बाहर लाइन में लगे लोगों को भी आवश्यक जानकारी प्रदान कर उन्हे जागरुक करने का प्रयास पुलिस द्वारा किया जा रहा है।
कॉलेज और स्कूल में दी जाएगी जानकारी
पुलिस की यह कार्रवाई आगे भी जारी रहेगी। दूसरे चरण में सभी कॉलेजों व उच्च विद्यालयों में साइबर क्राइम को लेकर जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। थाना प्रभारी ने बताया कि साइबर क्राइम के बारे में जागरूकता ही सबसे बड़ा बचाव है। इसलिए क्राइम के नए अंदाज को जन जन तक पहुंचना जरूरी है। डिजिटल क्रांति के इस दौर में सभी को सजग रहने की आवश्यक्ता है। अपने बैंक एकाउंट, पिन नम्बर के साथ अन्य जानकारियों को लेकर ग्राहक जागरुक होगा तभी साइबर क्राइम को रोका जा सकता है।

ayazuddin siddiqui
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned