घर को बना लिया स्कूल, दो बरामदों में छात्राओं को दे रहे शिक्षा

तीन मोहल्ला कक्षा के माध्यम से बच्चों को पढ़ाना किया शुरू

By: ayazuddin siddiqui

Published: 12 Jan 2021, 06:29 PM IST

उमरिया. कोविड 19 के दौरान जहां प्रदेश मे कक्षा 1 से 8 तक की सभी स्कूलें बंद थी, वहीं प्राथमिक शाला रामपुर विकासखण्ड पाली के शिक्षक कमलेश कुमार शुक्ला ने अपने घर को स्कूल में तब्दील कर दिया। ज्ञात हो कि जब राज्य शिक्षा केंद्र ने लॉकडाउन के दौरान डिजिलेप और रेडियो स्कूल के माध्यम से हमारा घर हमार विद्यालय कार्यक्रम प्रारंभ किया तो शिक्षक कमलेश कुमार शुक्ला ने तीन मोहल्ला कक्षा के माध्यम से स्कूल के बच्चों को पढाना शुरू किया। पालको को प्रेरित करने, बच्चों को कोविड के प्रति जागरूक करेन के लिए उन्होने बच्चो को मास्क, कापी पेन वितरित किए। शिक्षक अपने घर मे दो बरामदे में बच्चो को शिक्षा दे रहे है।
जहां वह अपनी टीव्ही मे मोबाइल कनेक्ट करके डिजिलेप की वीडियो, रेडियो के कार्यक्रम निर्धारित टाईम टेबिल के अनुसार दिखाते है। इसी तरह यू ट्यूब से विषय वस्तु से जुडी वीडियो को दिखा रहे है। शिक्षक के पुत्र सचिन शुक्ला और पुत्री नेहा शुक्ला भी इस कार्य में मदद कर रहे है। प्रतिदिन 27 में से 25 बच्चे आ रहे है। इसके अलावा अशा. ब्लासिंग विद्यालय के 6 बच्चे, सेंट ऐजिल्स स्कूल के 5 बच्चे , सेंट जोसेफ स्कूल के दो बच्चे , सरस्वती स्कूल के सात बच्चे और मा. शा. बिंझला टोला के पांच बच्चे पढने आते है। कमलेश शुक्ला द्वारा किए जा रहे इस कार्य से जहां गांव के पालको का भरोसा उनके प्रति जागा है और वे अपने बच्चो को उनके घर तक छोड कर आते है वही शिक्षक दिवस पर कलेक्टर उमरिया द्वारा प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया है।

Show More
ayazuddin siddiqui
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned