नेशनल लोक अदालत में आपसी सुलह से कई प्रकरणों का हो गया निराकरण

नेशनल लोक अदालत में आपसी सुलह से कई प्रकरणों का हो गया निराकरण

Ramashankar mishra | Updated: 14 Jul 2019, 12:03:57 PM (IST) Umaria, Umaria, Madhya Pradesh, India

48 लाख 17 हजार 16 रुपये का अवार्ड पारित

उमरिया. जिला एवं सत्र न्यायाधीश एवं अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण पी. के. सिन्हा की अध्यक्षता में नेशनल लोक अदालत का आयोजन किया गया। नेशनल लोक अदालत न्यायिक प्रकरण आपराधिक, सिविल श्रम, मोटर दुर्घटना, कुटुम्ब न्यायालय के लंबित / प्रीलिटिगेशन के समझौता योग्य प्रकरणों का निराकरण आपसी समझौता के आधार पर किया गया। प्रीलिटिगेशन के रूप में सभी बैंकों के प्रकरणों, नगर पालिका एवं विद्युत प्रकरणों का निराकरण किया गया। इस अवसर पर प्रथम अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश सुरेंद्र कुमार, तृतीय अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश अशरफ अली, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट मानवेंद्र पवार, द्वितीय व्यवहार न्यायाधीश वर्ग- 2 कपिल नारायण भारद्वाज, अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष पुष्पराज सिंह, जिला रजिस्ट्रार रोहित कटारे, प्रथम व्यवहार न्यायाधीश वर्ग 1 लालता सिंह, तृतीय व्यवहार न्यायाधीश वर्ग 1 प्रितांजलि सिंह, द्वितीय व्यवहार न्यायाधीश वर्ग - 2 अभिषेक कुमार , प्रशिक्षु न्यायाधीश, जिला विधिक सहायता अधिकारी प्रदीप सिंह उपस्थित रहे। लोक अदालत में 211 प्रकरणों का निपटारा आपसी सुलह, समझौता से हुआ जिसमें 168 प्रीलिटिगेशन प्रकरण, बैंक बी एस एन एल प्रकरण, नगर पालिका , विद्युत प्रकरण, न्यायालय में लंबित प्रकरण 43 सुलह समझौता के माध्यम से निपटाए गए। मोटरयान दुर्घटना क्षतिपूर्ति दावा प्रकरण 17 जिसमें 28 लाख रूपये राशि का आवार्ड पारित किया गया। चेक बाउंस के मामले 136 का प्रकरण में 6 लाख 58 हजार 8 सौ 76 रुपए, आपराधिक प्रकरण 4 निपटाए गए। वैवाहिक प्रकरण के 12 प्रकरणों का निपटारा किया गया। नेशनल लोक अदालत में 225 व्यक्तियो को लाभान्वित करते हुए 48 लाख 70 हजार 16 रूपये का अवार्ड पारित किया गया।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned