सरकार चाहती है किसान काले कानून का विरोध बंद करें, ताकि उद्योगपतियों को सौंप दें कृषि क्षेत्र

विरोध प्रदर्शन, कहा- किसानों के मौत की जिम्मेदार भाजपा

By: ayazuddin siddiqui

Published: 04 Oct 2021, 11:28 PM IST

उमरिया. उत्तरप्रदेश के लखीमपुर खीरी मेें गत दिनों वाहन चढ़ा कर आठ किसानों को मौत के घाट उतारने व कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को हिरासत में लेने के विरोध में कांग्रेस द्वारा संयुक्त रूप से धरना-प्रदर्शन किया गया। इस मौके पर कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मप्र कांग्रेस कमेटी के महामंत्री एवं पूर्व विधायक अजय सिंह ने कहा कि यूपी में हुई अन्नदाता की नृशंस हत्या के लिए सिर्फ और सिर्फ भाजपा जिम्मेदार है। केन्द्र में बैठी मोदी सरकार महीनों से कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों के विरुद्ध वातावरण बनाने में लगी हुई थी। उसका मानना है कि किसी तरह से किसान इन काले कानूनों का विरोध बंद कर दें ताकि वह कृषि क्षेत्र भी उद्योगपतियों के हाथों में सौंपा जा सके। सिंह ने कहा कि भाजपा सरकार लोकतंत्र और संविधान का माखौल उड़ा कर विरोध के स्वरों को दमन से दबाना चाहती है। जिसका प्रमाण लखीमपुर जा रही कांग्रेस नेत्री श्रीमती प्रियंका गांधी को जबरन हिरासत मे लेना है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का प्रत्येक कार्यकर्ता भाजपा की इस नीति के खिलाफ सड़कों पर उतर कर संघर्ष करने के लिये तैयार है।
बांधी काली पट्टी
इस मौके पर जिला कांग्रेस सेवादल ने कालीपट्टी बांधकर किसानों की हत्या तथा पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी की गिरफ्तारी का विरोध किया। कार्यक्रम में मप्र कांग्रेस कमेटी के महासचिव, पूर्व विधायक अजय सिंह, जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष राजेश शर्मा, महामंत्री ठाकुरदास सचदेव, त्रिभुवन प्रताप सिंह, ब्लाक अध्यक्ष अमृतलाल यादव, प्रवक्ता अशोक गौंटिया, सेवादल के जिलाध्यक्ष संतोष सिंह, युवा कांग्रेस के जिलाध्यक्ष विजेन्द्र सिंह अब्बू, महामंत्री मयंक प्रताप सिंह, पीएन राव, रघुनाथ सोनी, नासिर अंसारी, राजीव सिंह बघेल, शिशुपाल यादव, वरुण नामदेव, ताजेन्द्र सिंह, यूथ विंग के जिलाध्यक्ष संदीप यादव, ताराचंद राजपूत, नीरज सिंह, अयाज खान, राजेन्द्र महोबिया, राजेश सिंह, शंकर सिंह, विजनेश, अफजल खान सहित बड़ी संख्या मे कांग्रेसजन उपस्थित थे।
ट्रांसफार्मर बदलने सौंपा ज्ञापन
कांग्रेस ने जिले में जले हुए ट्रांसफार्मर तत्काल बदलने की मांग करते हुए ज्ञापन जिला प्रशासन को सौंपा है। ज्ञापन में बताया गया है कि जिले में हजारों की संख्या में विद्युत ट्रांसफार्मर महीनों से जले हुए हैं। जिससे किसानों की खड़ी फसलें सूख रही है। विगत दिनों कलेक्टर द्वारा विद्युत विभाग को एक सप्ताह मे सभी खराब ट्रांसफार्मर क्रमवार बदलने के निर्देश दिए गए थे परंतु आज तक इस संबंध में कोई कार्यवाही नहीं हुई है।

Show More
ayazuddin siddiqui
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned