चाय बेचने वाले का बेटा बन गया राइस मिल का मालिक

चाय बेचने वाले का बेटा बन गया राइस मिल का मालिक

Ramashankar mishra | Updated: 14 Jul 2019, 12:26:22 PM (IST) Umaria, Umaria, Madhya Pradesh, India

शासन की इस योजना का लिया लाभ, महीने में लाखों की कर रहा कमाई

उमरिया. जहां चाह होती है, तो राह मिल ही जाती है। ऐसी ही कहानी है विजय गुप्ता की। विजय गुप्ता के पिता रेल्वे स्टेशन उमरिया में चाय बेंचकर परिवार का जीवन यापन करते है। उनका बेटा विजय गुप्ता जो मात्र कक्षा 10 तक की शिक्षा प्राप्त किया है। मन में सदैव बडा व्यवसायी बनने की ललक थी लेकिन परिस्थितियां विपरीत थी। विजय ने जिला व्यापार एवं उद्योग केंद्र में महाप्रबंधक के समक्ष अपनी बात रखी। उन्होने उन्हें समझाइश दी की व्यवसाय हेतु ज्यादा शिक्षित होना या पूंजी का होना जरूरी नही है। जरूरी है दृढ इच्छा शक्ति तथा अपने काम के प्रति लगन एवं ईमानदारी की। विपरीत परिस्थितियों से बीता विजय का बचपन अब उससे निकलने के लिए बेताब था। पिता के साथ काम करने के कारण ग्राहक की संतुष्टि , ग्राहक से बरताव जैसे सफल व्यवसायी के गुण उसमे आ चुके थे। महाप्रबंधक व्यापार एवं उद्योग केंद्र ने स्वरोजगार हेतु जो भी शर्तें बताई वह सब मानने के लिए तैयार था। मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना के तहत विजय का स्वरोजगार का प्रकरण तैयार किया गया। प्रकरण स्वीकृति हेतु बैंक को प्रेषित किया गया, जहां से उसे 40 लाख रुपए का ऋण स्वीकृत हुआ। विजय ने अपने व्यवसाय हेतु पूर्व से खरीदी जमीन जो बायपास उमरिया में भरौला रोड पर स्थित है में. आर्या राइस मिल्स प्रारंभ कर दी। उसने बताया कि महज तीन चार महीने में ही उसे 10 लाख रुपए की आय हुई। इतना ही नही विजय ने अपनी राइस मिल में 25 लोगो को नौकरी दे रखा है। विजय ने बताया कि बरसात के महीने में शासकीय संस्थाओ से पर्याप्त काम मिल जाता है। किसानों से धान की खरीदी कर राइस मिल का संचालन करता हुं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned