तीन तस्कर गिरफ्तर, जिंदा पैंगोलिन बेचने की फिराक में थे आरोपी

दो आरोपियों को कटनी के बड़वारा से पकड़ा

By: ayazuddin siddiqui

Published: 24 Feb 2021, 05:55 PM IST

उमरिया. बांधवगढ टाइगर रिजर्व प्रबंधन को उमरिया हवाई पट्टी के पास कुछ संदिग्ध लोगों द्वारा वन्यजीव पैंगोलिन को बेचने की फिराक में होने की सूचना मिली थी। बीटीआर उमरिया, डब्ल्यूसीसीबी, एसटीएफ जबलपुर व कुंडम परियोजना जबलपुर की संयुक्त जांच टीम गठित की गई। जिसका नेतृत्व पवन ताम्रकार रेंजर मानपुर द्वारा किया गया। हवाई पट्टी उमरिया के नजदीक संदिग्ध लोगोंं की तलाश शुरू की गई। जहां पर तीन संदिग्ध लोगोंं को देखा गया। कार्रवाई देख आरोपी भागने का प्रयास करने लगा। घेराबंदी कर आरोपी को दबोचा तो जब्त सामान दिखाने में आनाकानी करने लगा। बाद में उनके पास से जीवित पैंगोलिन पाया। तीनों आरोपियों के कब्जे से दो बाइक और एक जीवित पेंगोलिन को कब्जे में लेकर मामला दर्ज किया है।
सुराग मिलते ही ग्राहक बनकर कटनी पहुंची टीम
पूछताछ के दौरान कुछ और भी आरोपियों का सुराग मिला है। जिनका लिंक बड़वारा कटनी से मिल रहा था। देर रात लगभग 12 बजे टीम ने तय किया कि रात में ही कार्रवाई करेंगे। टीम बड़वारा कटनी के लिए रवाना हुई और बड़वारा में मप्र राज्य वन विकास निगम परियोजना के डिप्टी रेंजर श्रतिमरेश इवने के साथ एक और टीम तैयार की। बड़वारा पहुंचने पर लिंक के आधार पर आरोपियों द्वारा बताए गए स्थान पर विभाग के कुछ लोग व्यापारी बनकर पहुंचे। घेराबंदी करके आरोपियोंं को पकडऩे की कोशिश की गई इसमें से दो आरोपी और एक जीवित पैंगोलिन एक मोटरसाइकिल साथ में गिरफ्त में आए। वन्यजीव तस्करी के खिलाफ यह दूसरी बड़ी कार्यवाही वन विभाग, डब्ल्यूसीसीबी और एसटीएफ के द्वारा संयुक्त रूप से की गई है। कार्रवाई मेंं वन विकास निगम के संभागीय प्रबंधक अनिल चोपड़ा ने आरोपियोंं के खिलाफ कार्रवाइ्र के निर्देश दिए। क्षेत्र संचालक विंसेंट रहीम, डब्ल्यूसीसीबी के डायरेक्टर अभिजीत रॉय चौधरी, एसटीएफ जबलपुर एस पी नीरज चौधरी के निर्देशन में संयुक्त कार्यवाही कर वन्यजीव अपराध में लिप्त गिरोह से संबंधित अवैध व्यापार को रोकने लगातार प्रयास जारी हैं।

ayazuddin siddiqui
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned