शौचालय और अलमारियों में छिपे मिले दलाल व बाबुओं के निजी कारीगर

उप सम्भागीय परिवहन कार्यालय बंद होने के बाद पड़े छापे में 22 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

By: Mahendra Pratap

Published: 09 Dec 2017, 11:38 AM IST

उन्नाव. उप सम्भागीय परिवहन कार्यालय बंद होने के बाद जिलाधिकारी के निर्देश पर डाले गये छापे में बाबू समेत 22 को पुलिस ने गिरफ्तार किया। उन्नाव सहित कानपुर और लखनऊ के लोग शामिल हैं, जो छापा मारी के दौरान अलमारी, शौचालय सहित जहां जगह मिली वहां छिप गये थे। पहली बार के छापे में सभी दलाल और बाबू बच गये थे। परंतु जिलाधिकारी ने सूचना मिल पर दोबारा फिर छापा मारने के निर्देश दिये। इसके बाद शौचालय और अलमारी खंगाले गये। उसके बाद ये सभी गिरफ्तार हुये। इसके साथ ही बाबू की अलमारी से नगदी भी बरामद हुयी। जिलाधिकारी के निर्देश पर 21 के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया है। जिन्हे न्यायालय में पेश किया जायेगा।

इस छापामारी में कुछ खास है

विवादों में रहे उपसम्भागीय परिवहन कार्यालय का हमेशा ही जिलाधिकारियों के निशाने में रहा है। कई बार छापा भी मारा गया। परंतु कोई उल्लेखनीय सफलता प्रशासन को नहीं मिलती थी। बीती देर शाम हुये छापामार कार्रवाई जो सफलता मिली है, वह खास है। इसमें कार्यालय का समय खत्म हो जाने के बाद जिलाधिकारी की कार्रवाई शुरू हुई और उपजिलाधिकारी के नेतृत्व में छापामारा गया। परंतु अंदर बिल्कुल सन्नाटा पसरा था। जिससे छापामार टीम वापस आ गयी। इसी बीच सूचना मिली कि कार्यालय के अंदर शौचालय और अलमारियों में कुछ लोग छिपे हैं। जिसके बाद जिलाधिकारी ने भारी संख्या में पुलिस को भेज कर दोबारा ताला खुलवाकर शौचालय और अलमारियों की तलाशी करवायी। इसके बाद का नजारा देखने वाला था। इस दौरान एक बाबू सहित 22 लोगों को गिरफ्तार किया गया।

प्रत्येक टेबल पर रखे हैं निजी कारीगर

छापे के दौरान पकड़े गये लोगों में बाबुओं द्वारा रखे गये कारीगर भी शामिल है। जो पकड़े जाने के दौरान बता भी रहे थे। परंतु बाबुओं की अपनी गर्दन फंसी हो तो रखे गये कर्मचारी को कौन बचाये। यहां बात स्पष्ट है कि कार्यालय के पत्येक पटल पल कार्य करने वाले बाबुओं के पास एक या इससे अधिक निजी कारीगर मौजूद है। फिलहाल दो बाबुओं पर निलम्बन की तलवार लटकी नजर आ रही है, जिसमें एक एकाउन्टेट और दूसरे स्थनान्तरण का कार्य देखने वाले बाबू हैं।

प्राइवेट चौकीदार सहित 22 को पुलिस ने किया गिरफ्तार

पकड़े गए बाहरी व्यक्तियों में दिनेश कुमार निवासी तारगांव थाना अचलगंज, सौरभ चतुर्वेदी निवासी धनी अचलगंज, प्रदीप वर्मा निवासी थाना कोतवाली पुरवा सुमित निवासी डीह कोतवाली सदर, रमेश बाजपेई निवासी राम देई खेड़ा थाना कोतवाली सदर, संजय कुमार निवासी ए बी नगर थाना सदर कोतवाली सदर, अनूप अवस्थी निवासी सराय थाना कोतवाली सफीपुर, विनीत कुमार निवासी आवास विकास कॉलोनी थाना कोतवाली सदर, अली अब्बास निवासी आवास विकास कॉलोनी थाना कोतवाली सदर, बृजेश तिवारी निवासी लखनऊ, मोहम्मद मुशीर निवासी सिकंदरपुर सरोसी थाना कोतवाली सदर, नीरज सोनी निवासी लखनऊ, अंकित मिश्रा निवासी शुक्लागंज थाना गंगाघाट, लोकेश कश्यप निवासी गोमती नगर लखनऊ, संजय यादव निवासी किशोरी खेड़ा थाना कोतवाली सदर, राजकुमार निवासी लखनऊ, अखिलेश कुमार डुमरिया लखनऊ, संजय कुमार तिवारी निवासी पूरन नगर थाना कोतवाली सदर, राकेश कुमार निवासी ए बी नगर थाना कोतवाली सदर, ऋषभ निवासी बर्रा कानपुर और शुभम निवासी किदवई नगर जनपद कानपुर को गिरफ्तार किया गया है। इनके साथ के चौकीदार तेजवान जो कि माली का भी काम प्राइवेट कर्मी के रूप में करते हैं, को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। छापामार कार्रवाई के दौरान सीओ सदर वाह हसनगंज के साथ उप जिलाधिकारी नायब तहसीलदार सहित लेखपाल भी मौजूद थे।

Mahendra Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned