हनीमून मनाने के कुछ महीने बाद अलग हो जाते है आधे लोग

हनीमून मनाने के कुछ महीने बाद अलग हो जाते है आधे लोग

By: Ruchi Sharma

Published: 12 Nov 2017, 10:16 AM IST

उन्नाव. नये दम्पितयां जो शादी कर रही है। उनमें लगभग पचास प्रतिशत शादियां एक साल के अंदर तलाक की तरफ जा रही है। यह परिणाम एक रिसर्च के बाद सामने आया है। यह रिसर्च मुम्बई महानगरी में किया गया था। यह संख्या देश के अंदर ऊपर नीचे हो सकता है। पंरतु यह परिणाम भयावह है। अंदर की आंतरिक शक्ति सहने करने की, समाने की, दूसरों की कमी कमजोरियों समझने व साथ-साथ चलने की प्रवृति टूटती जा रही है। गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल प्रोफेसर ई. वी. स्वामीनाथन उक्त विचार व्यक्त किए।

उन्होंने कहा कि आपसी सम्बंधों को सुधारने का जो दिव्य गुणहमारे अंदर है, अष्ट शक्तियां है, वह कम होती जा रही है। शहर में यह बहुत ज्यादा है। प्रोफेसर ई. वी. स्वामीनाथन ने कहा कि आज घरों में क्रोध एक बहुत बड़ी समस्या है।

एम्स में खुला डिजिटल का ओपीडी

व्यस्त लाइफ में हम अपने बच्चों पर जितना ध्यान देना चाहिए नहीं दे पाते हैं। आज की तारीख में जो सबसे बड़ा Ericsson या व्यसन है। वह स्मोकिंग, ड्रिंकिंग, ड्रग का आदि है। परंतु आज की तारीख में सबसे बड़ा व्यसन डिजिटल व्यसन है। मोबाइल, टीवी, कंप्यूटर, मीडिया गेम यह सबसे बड़ा एडिक्शन व्यसन बन चुका है। ऐसा नहीं है यह सब नहीं देखना है। लेकिन बच्चे इन सब चीजों के इतने आदी हो रहे हैं जो खतरनाक है। ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइज के हेड ऑफ डिपार्टमेंट डॉक्टर उषा किरण ने बताया कि दिल्ली के एम्स में डिजिटल डी एडिक्शन व्यसन पर एक ओपीडी का प्रारंभ किया गया है।

आज ज्यादातर अपराध डिजिटल को लेकर हो रहा है। इन सब से हम कैसे बचें। इन सब की एक विधि है जो बताया जाएगा। योग का अर्थ होता है जोड़ना। आज WhatsApp के माध्यम से हम पूरी दुनिया से जुड़े हुए हैं। भारत का प्राचीन राजयोग है। राजयोग दो शब्दों से बना है।

राज का मतलब है रहस्य और दूसरा राज का मतलब होता है राज्य। हमें अपने जीवन का मालिक स्वयं बनना पड़ेगा मेरे साथ क्या हो रहा है। लोग मेरे साथ क्या व्यवहार कर रहे हैं। कैसी परिस्थिति है। उस पर हमारा कोई नियंत्रण नहीं है। परंतु मेरे मन के अंदर जो चल रहा है उस पर मेरा नियंत्रण होना चाहिए।

मेरे मन के अंदर क्या चल रहा है इस पर मेरा नियंत्रण होना चाहिए और मन और बुद्धि को कैसे नियंत्रित करेंगे। इसका रहस्य राजयोग में बताया जाता है। स्थानीय नार्मल स्कूल मैदान में आयोजित वाह जिंदगी वाह कार्यक्रम में शामिल होने आये थे। गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल प्रोफेसर ई. वी. स्वामीनाथन। उन्होंने शिविर में मौजूद लोगों को मेजिटेशन का अभ्यास कराया।

Ruchi Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned