मृतक दुष्कर्म पीड़िता मामला - आरोपी परिवार बैठा धरने पर, की सीबीआई जांच की मांग

- 2 अक्टूबर को गायब हुआ था मृतक दुष्कर्म पीड़िता का भतीजा

- आरोपी परिवार कर रहा है सीबीआई जांच की मांग

- पीड़ित परिवार की सुरक्षा में पीएसी और पुलिस फिर भतीजे का गायब होने का दोष उन पर क्यों

By: Narendra Awasthi

Published: 18 Oct 2020, 05:48 PM IST

उन्नाव. बिहार थाना क्षेत्र में मृतक दुष्कर्म पीड़िता के भतीजे के गायब होने के मामले में आरोपी परिवार के सदस्य मुख्यालय पहुंच पुलिस पर सवालिया निशान लगा रहे हैं। उनका कहना है कि जब पीड़ित परिवार की सुरक्षा में पुलिस और पीएसी लगाई गई थी तो भतीजे के गायब होने के मामले में उनका परिवार दोषी कैसे हो गया। पुलिस भतीजेे को खोज नहीं पा रही तो उनके परिवारी जनोंं को गिरफ्तार क्यों किया। पुलिस पीड़ित परिवार के इशारे पर उन लोगों का उत्पीड़न कर रही है। धरना की जानकारी मिलते ही मौके पर एसडीएम, एएसपी, सिटी मजिस्ट्रेट, कोतवाली प्रभारी सहित बड़ी संख्या में पुलिस बल पहुंच गई। घंटोंं समझानेेे के बाद पीड़ित आरोपी परिवार धरना समाप्त किया।

 

विगत 2 अक्टूबर को मृतक दुष्कर्म पीड़िता के भतीजा अचानक गायब हो गया था जिसकी खोज के लिए पुलिस की 14 टीमें बनाई गई थी इसके अतिरिक्त स्वाट सर्विलांस भी लगाई गई लेकिन 17 दिन बीतने के बाद भी भतीजे की बरामदगी नहीं हो सकी लेकिन आरोपी परिवार से 3 महिला सहित पांच लोग जेल में हैं। इस संबंध में आरोपी परिवार से रिचा त्रिवेदी का कहना है कि पीड़ित परिवार शासन से मदद के लालच में षड्यंत्र रच कर अपने भतीजे को गायब किया है। इसके पूर्व की पीड़िता के परिजन गायब भतीजे को मृतक दुष्कर्म पीड़िता की समाधि पर अपने भतीजे को ले गई थी। लेकिन पुलिस पीड़ित परिवार की बातों पर विश्वास कर आंख मूंद कर कार्रवाई कर रही है।

 

आप रूपी परिवार का कहना है कि पीड़ित परिवार की दिनचर्या में गम का कोई स्थान नहीं है। जिसे देखकर लगता है कोई षडयंत्र रचा गया है। पीड़ित परिवार शासन से मदद के लिए बार-बार दबाव बना रहा है भतीजे की कोई चिंता नहीं है। शासन से मिलने वाली नौकरी, फ्लैट, असलहा के लाइसेंस के लिए परिवार बार-बार बयान दे रहा है। आरोपी परिवार सीबीआई जांच के साथ गायब भतीजे के पिता, चाचा, मां, बाबा आदि के लाई डिटेक्टर व नारको टेस्ट कराने की मांग कर रहा है। इधर बड़ी मशक्कत के बाद अपर पुलिस अधीक्षक क्षेत्राधिकारी नगर वह कोतवाली प्रभारी के प्रयासों से आरोपी परिवार ने धरना समाप्त करने का निर्णय लिया।

Narendra Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned