रिश्वत लेते लेखपाल पर एंटी करप्शन की बड़ी कार्रवाई

Narendra Awasthi | Publish: Sep, 09 2018 07:44:50 PM (IST) Unnao, Uttar Pradesh, India

पक्ष में रिपोर्ट लगाने के लिए मांग की गई थी 10000 की

उन्नाव. एंटी करप्शन टीम ने लेखपाल को रंगे हाथ रिश्वत लेते हुए पकड़ा। एंटी करप्शन टीम के द्वारा दिए गए नोट लेखपाल के हाथ से बरामद किया और प्रमाण के रूप में उसके हाथ धुला कर इकट्ठा किए। बताया जाता है हिलोली गांव निवासी का मामला अदालत में चल रहा था। पक्ष में रिपोर्ट लगाने के लिए लेखपाल ने पैसे की डिमांड की थी। जिसकी सूचना पीड़ित ने एंटी करप्शन टीम को दी। एंटी करप्शन टीम की सलाह पर पीड़ित ने उनके द्वारा दिए गए रुपए लेखपाल को दिया। इसी बीच मौके पर पहुंचे एंटी करप्शन की टीम ने लेखपाल को रंगे हाथ दबोच लिया। हिलोली गांव की यह घटना क्षेत्र में चर्चा का विषय बनी है। सरकारी कार्यालयों में व्याप्त भ्रष्टाचार आम जनता को परेशान किया जिसकी यह एक बानगी मात्र है। प्रत्येक कार्यालय में यही स्थिति व्याप्त है। इस संबंध में एंटी करप्शन के इंस्पेक्टर ने मौरावा थाने में तहरीर देकर लेखपाल के खिलाफ मामला दर्ज कराया है।


एडीएम कोर्ट में चल रहा था मामला

मौरावां थाना क्षेत्र के हिलोली गांव निवासी अनुज कुमार सैनी का मामला एडीएम कोर्ट में चल रहा था। जिसकी जांच लेखपाल संतोष साहू कर रहा था। बताया जाता है ग्राम समाज की जमीन पर अरुण कुमार सैनी का विगत कई वर्षों से कब्जा था। जिस पर कुछ समय पहले हरिराम और धनीराम के नाम पट्टा कर दिया गया था। अनुज सैनी का मामला इसके खिलाफ एडीएम कोर्ट चल रहा था। जिसकी जांच लेखपाल संतोष साहू को दी गई थी। लेखपाल संतोष साहू अनुज कुमार सैनी से उस के पक्ष में रिपोर्ट लगाने के लिए ₹10000 की मांग की थी।


एंटी करप्शन टीम की सलाह पर हुई कार्रवाई

जिसकी जानकारी अनुज सैनी ने एंटी करप्शन टीम को दी। एंटी करप्शन टीम की सलाह पर अरुण कुमार सैनी ने मिठाई की दुकान पर लेखपाल को बुलाकर 5000 दिए। उसी समय मौके पर पहुंचे एंटी करप्शन की टीम ने लेखपाल संतोष साहू को रंगे हाथ पकड़ लिया। इस संबंध में एंटी करप्शन इंस्पेक्टर सुरेश नारायण ने मौरावा थाने में तहरीर देकर संतोष साहू के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कराया है। मौरावा थानाध्यक्ष ने बताया कि मामला दर्ज कर लिया गया है। आगे की कार्रवाई एंटी करप्शन विभाग की लखनऊ टीम करेगी। वही एंटी करप्शन इंस्पेक्टर ने तहसीलदार को मामले की जानकारी देते हुए गिरफ्तारी की सूचना दी। तहसीलदार ने राजस्व निरीक्षक को भेजकर लेखपाल संतोष साहू के पास से अभिलेख अपनी सुपुर्दगी में ले लिया।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned