पति-पत्नी की बगावत के बाद बीजेपी में मचा हड़कंप, नहीं मना पाए बड़े-बड़े नेता

सांसद और प्रभारी मंत्री का समझाना भी हुआ बेकार...

उन्नाव. सफीपुर नगर पंचायत के स्थानीय निकाय चुनाव में नामांकन वापसी की तारीख निकल जाने के बाद भाजपा के बागी प्रत्याशी का पत्नी के साथ चुनावी मैदान में बने रहना चर्चा का विषय बना हुआ है। क्षेत्रीय सांसद साक्षी महाराज ने उन्हें मनाने का प्रयास किया, लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली। इधर कांग्रेस के प्रत्याशी ने भी चुनावी कार्यालय खोल चुनाव प्रचार को गति दी। चुनाव चिन्ह प्राप्त होने के बाद तमाम निर्दलीय प्रत्याशी मैदान में मजबूती के साथ खड़े होकर चुनाव प्रचार में लगे हैं। विभिन्न राष्ट्रीय पार्टी के प्रत्याशी चुनाव प्रचार में छोटी- छोटी गाड़ियों का इस्तेमाल कर रहे हैं। इसमें ई-रिक्शा महत्वपूर्ण रोल अदा कर रहे हैं। ज्यादातर पार्टियां चुनाव प्रचार में ई-रिक्शे का इस्तेमाल कर रही हैं। चुनाव चिन्ह आवंटन के बाद नगर पंचायत अध्यक्ष उम्मीदवारों ने चुनाव प्रचार का बिगुल फूंक दिया है। जिसमें छोटी गाड़ियों का विशेष इस्तेमाल हो रहा है।


जिला अध्यक्ष ने कार्यकर्ताओं से की बातचीत

भाजपा प्रत्याशी सौरभ बाजपेयी उर्फ राजबेटा के कार्यालय का उद्घाटन जिला अध्यक्ष श्रीकांत कटिहार व प्रमाणपत्र दीक्षित ने किया। इस मौके पर मौजूद कार्यकर्ताओं के साथ उन्होंने बातचीत की और चुनावी रणनीति बनाई। जिला अध्यक्ष ने कार्यकर्ताओं के साथ रणनीति तैयार कर चुनाव प्रबंधन की जिम्मेदारी अलग अलग कार्यकर्ताओं को दी। उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि सभी गिले शिकवे भूल कर भाजपा और कमल निशान को जिताने का संकल्प लेकर कार्यकर्ता चुनाव प्रचार में लगे। चुनाव के दौरान व्यक्तिगत महत्वकांक्षा से ज्यादा अहम पार्टी का होता है। इस मौके पर मण्डल अध्यक्ष शतगुरू मिश्रा, बिक्रम सिंह ठाकुर, रमेश रावत, राकेश मिश्रा मटरी, गोलू दीक्षित सहित बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता मौजूद थे।

 

पूर्व सांसद अनु टंडन ने कार्यकर्ताओं में भरा जोश

सफीपुर नगर पंचायत से कांग्रेस प्रत्याशी अख्तर खान के चुनावी कार्यालय का उद्घाटन करते हुए पूर्व सांसद अन्नू टंडन ने कार्यकर्ताओं में जोश भरा उन्होंने कहा प्रत्याशी के साथ बातचीत कर पूरे मनोयोग से चुनाव मैदान में डट जाएं। इस दौरान बड़ी संख्या में कांग्रेस के कार्यकर्ता और पदाधिकारी मौजूद थे। जिसमें नगर कांग्रेस के अध्यक्ष जंगबहादुर विमल, युवक कांग्रेस के अरसद जमील, बम्हना प्रधान यशवन्त सिंह, क्रय-विक्रय सहकारी समिति के उपाध्यक्ष सतीश चंद्र गुप्ता गुड्डू सेठ, सुशील यादव, हाजी अकील अहमद, कम्मू भाई, नुफ्फी प्रधान, मुन्ना, शमीम भाई, अनूप मेहरोत्रा, रजोल तिवारी, शकील अहमद, आदि बड़ी संख्या में कार्यकरता एवम समर्थक मौजूद रहे। दिलचस्प बात यह है कि नगर पंचायत सफीपुर के नामांकन में सभी राष्ट्रीय पार्टियों के प्रत्याशियों ने पत्नी के साथ अपना भी नामांकन कराया था जिसमें सपा बसपा और कांग्रेस प्रत्याशियों की पत्नी ने अपना नामांकन वापस ले लिया है परंतु भारतीय जनता पार्टी के बागी प्रत्याशी हरशरण लाला और उनकी पत्नी पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष उमा देवी ने अपना नामांकन वापस नहीं लिया ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि भारतीय जनता पार्टी के दो बागी प्रत्याशी वास्तविक प्रत्याशी को कितना नुकसान पहुंचाते हैं। हरशरण लाला की पत्नी उमा देवी को को जहां पंखा चुनाव निकाल मिला है। वहीं हरिशरण लाला को जीप का निशान मिला है।

BJP Congress
Show More
नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned