कोविड-19 - लाॅक डाउन के दौरान कम्युनिटी किचन के प्रयोग पर जोर

- प्राथमिक व उच्च विद्यालयों को कम्युनिटी किचन के रूप में विकसित करने की मंशा

- जिलाधिकारी ने आज पूर्णागिरि धाम में बनाये गये कम्युनिटी किचन व स्टोर का निरीक्षण

उन्नाव. जिलाधिकारी ने नोवेल कोरोना वायरस कोविड-19 के संक्रमण के चलते जनपद में 14 अप्रैल तक लॉक डाउन किया गया है। जनपद के जरूरतमंद व्यक्तियों को पका पकाया भोजन व राशन आदि समय से उपलब्ध कराने हेतु नन्हकू डिप्टी कलेक्टर (मो. नं. 8081728175) की अध्यक्षता में नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में समिति का गठन किया गया है। समिति के सदस्य जिला बंदोबस्त अधिकारी चकबंदी (मो. नं. 9454449912) जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी (मो. नं. 9450604934), समस्त खंड विकास अधिकारी व अधिशासी अधिकारी नगर पालिका, नगर पंचायत हैं।

 

जिलाधिकारी ने पूर्णागिरि धाम कम्युनिटी किचन स्टोर का किया निरीक्षण

जिलाधिकारी ने आज पूर्णागिरि धाम में बनाये गये कम्युनिटी किचन व स्टोर का निरीक्षण किया। मौके पर मौजूद नन्हकू, डिप्टी कलेक्टर को निर्देशित किया है कि खाद्य आपूर्ति व इंटीग्रेटेड कंट्रोल रूम अथवा अन्य स्रोतों से प्राप्त सूचना के आधार पर तत्काल संबंधित व्यक्तियों को उनकी आवश्यकता के अनुसार पका पकाया भोजन अथवा राशन आदि शीघ्र जरूरतमंद को उपलब्ध कराया जाए। यह सुनिश्चित कराए जाए कि कोई भी व्यक्ति भूखा न रहे। उन्होंने कहा कि खाद्य वस्तुओं की सहायता हेतु दानदाताओं द्वारा बराबर सम्पर्क किया जा रहा है। उन्होंने मन्दिर के प्रमुख से कहा कि आप पके हुये भोजन का दान करते आये हैं। आज भी इस विषम परिस्थितियों में भी आप द्वारा किया जा रहा कार्य सराहनीय है। उन्होंने आश्वासन दिया प्रशासन द्वारा आपको किसी भी तरह की खाद्य पदार्थों की कमी नहीं होने दी जाएगी।

 

राशन व पका पकाया भोजन देने के लिए ग्रामीण स्तर पर समिति का गठन

जिलाधिकारी ने डॉ राजेश कुमार प्रजापति, मुख्य विकास अधिकारी को भी निर्देश दिये हैं कि वे अपने स्तर से समस्त खंड विकास अधिकारियों को नोबेल कोरोना वायरस कोविड-19 नामक महामारी के कारण प्रदेश सरकार द्वारा जारी लॉक डाउन के दृष्टिगत जनपद के जरूरतमंद ग्रामीणों, व्यक्तियों को पका पकाया भोजन, राशन आदि समय से उपलब्ध कराने के संदर्भ में विस्तृत निर्देश दिये। उन्होंने कहा ग्रामीण स्तर पर समिति का गठन किया जाये।

 

समितियों का गठन

इस सम्बन्ध में मुख्य विकास अधिकारी ने बताया कि समितियों का गठन की प्रक्रिया प्रारम्भ कराने के लिये जनपद के समस्त खण्ड विकास अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये हैं। खाद्य आपूर्ति व इंटीग्रेटेड कंट्रोल रूम अथवा अन्य श्रोतों से प्राप्त सूचना के आधार पर तत्काल संबंधित व्यक्तियों को उनकी आवश्यकता के दृष्टिगत पका पकाया भोजन अथवा राशन आदि उपलब्ध कराया जायेगा। मुख्य विकास अधिकारी ने बताया कि लॉक डाउन के दौरान ग्रामीणों को मूलभूत सुविधाओं की उपलब्धता सुनिश्चित कराने हेतु ग्राम स्तर पर जो समिति गठित की गई है। उसके माध्यम से ग्राम में निवास करने वाले सुविधा संपन्न व्यक्तियों, सामाजिक कार्यकर्ताओं एवं अन्य ग्रामवासी जो आपातकाल की इस घड़ी में दान दे सकते हों।

 

दान देने वालों को प्रेरित करने आह्वान

दान देने वालों को प्रेरित करके उनसे आटा, चावल, दाल, सरसों का तेल, आलू, प्याज एवं अन्य तरह की सब्जियां प्राप्त की जाएं। जिसे अत्यंत ही गरीब व्यक्ति अर्थात जिन्हें अनाज की कमी के कारण भूखा रहने की नौबत हो, को ग्राम स्तर पर प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालय के रसोइयों के माध्यम से पका पकाया भोजन उपलब्ध कराने की व्यवस्था कराई जाए। आवश्यकतानुसार उनके घर पर राशन, सब्जी आदि भिजवाई जाए। परंतु किसी भी दशा में कोई भी व्यक्ति भूखा न रहे। इसका ध्यान अनिवार्य रूप से रखा जाए। इस संबंध में ग्राम पंचायत एवं ब्लाक स्तर पर एकत्र की गई सामग्री एवं उसके वितरण, पका पकाया भोजन उपलब्ध कराने आदि का लेखा-जोखा रखा जाए।

Narendra Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned