कोविड-19 - कानपुर से सटे शुक्लागंज में कम्युनिटी किचन का शुभारंभ, भूखे और असहाय के लिए सहारा

- जिलाधिकारी ने कहा बाहर घूमना बहादुरी नहीं

- डोर टू डोर व्यवस्था को और अधिक गतिशील बनाये जाने के निर्देश

- बाहर से आने वालों को निर्धारित समय तक निश्चित स्थान पर रखने का निर्देश

By: Narendra Awasthi

Published: 30 Mar 2020, 10:03 PM IST

उन्नाव. जिले में कम्युनिटी किचन की स्थापना से दिहाड़ी मजदूरों को काफी राहत मिल रही है। जनपद के कोने कोने में कम्युनिटी किचन की शुरुआत व व्यवस्था जिलाधिकारी रविंद्र कुमार द्वारा की गई। शुक्लागंज में स्थित ज्वाला देवी गर्ल्स इंटर कॉलेज में कम्युनिटी किचन के शुभारंभ पर उन्होंने कहा जनपद में कोई भी व्यक्ति भूखा नहीं सोएगा। कोरोना वायरस सक्रमंण के कारण प्रदेश, जनपद में लागू लाॅकडाउन के कारण जिला प्रशासन जनपद में सामुदायिक रसोई घर की स्थापना कर रही है।

कम्यूनिटी सेंटर में लॅाकडाउन के दौरान गरीबो, असहाय लोगो को खाना पेैकेट देकर उनकी मदद करने का भरोसा दिलाया। उन्होने बताया कि जनपद के ग्रामीण क्षेत्रों में भी कम्यूनिटी सेन्टर प्रारम्भ हो गये है। जिस क्षेत्र से किसी प्रकार की समस्याए आती है। सम्बन्धित क्षेत्रों में तैनात अधिकारियों द्वारा समस्या तत्काल हल करायी जाती है।

जिलाधिकारी ने कहा जनपद में राशन की कमी नही होने पायेगी, इसकी व्यवस्था कर ली गयी है। राइस मिल, फलोर मिल मालिको को निर्देश जारी किये जा चुके है कि किसी भी तरह की स्थिति से निपटने को तैयार रहे। उन्होने बताया कि सब्जी का स्टाक पर्याप्त है। किसी प्रकार की कालाबाजारी न होने पाये। इसके लिए जिला स्तरीय अधिकारियों की तैनाती करके स्थिति पर नजरे बनाये हुये है। डोर टू डोर व्यवस्था को और अधिक गतिशील बनाये जाने हेतु शुक्लागंज नगर पालिका के अधिशाषी अधिकारी को कडे निर्देश दिये है कि डोर टू डोर व्यवस्था में एक सरकारी कर्मचारी का होना आवश्यक है। यदि किसी प्रकार की शिकायत पायी जाती है तो सम्बन्धित के विरूद्व कठोर कार्यवाही की जायेगी।

जिलाधिकारी ने बताया कि कानुपर-शुक्लागंज बार्डर पर आने जाने वाले प्रत्येक व्यक्ति की कडाई से नियमो का पालन करते हुये आने जाने दिया जाये। जिसका पास बना है वही आ जा सकेगा। कोई भी व्यक्ति लाक डाउन में अनावश्यक बाहर घूमता न पाया जाये इसका पालन कराये जाने हेतु थानाध्यक्ष गंगाधाट को निर्देश जारी किये गये। जिलाधिकारी ने लोगो से अपील की है कि कोई भी व्यक्ति कोरोनावायरस के चलते बाहर न निकले। आवश्यक हो तभी बाहर सोसल डिस्टेस में निकले। उन्होने कहा बाहर घूमना बहादुरी नहीं है। सावधानी ही बचाव है। इसका पालन किया जाना आवश्यक है। उन्होने यह भी बताया कि जो लोग बाहर से आकर गांव, शहरों में रहने लगे है। उनकी सूची तैयार करायी गयी है। क्षेत्रीय अधिकारियों को निर्देश दिये गये है कि उनको शासकीय विद्यालयों, इण्टर कालेजों में निर्धारित समय सीमा तक रखा जाये। स्वास्थ्य परीक्षण के उपरान्त ही घरों में रहने की इजाजत दी जाये। ताकि कोरोना वायरस संक्रमण से अन्य सदस्यों को होने से बचाया जा सके । इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक विक्रान्तवीर, उप निदेशक सूचना डा. मधु ताम्बे आदि उपस्थित थे।

Narendra Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned