दिव्यांगता की आड़ में विकलांग करता था ये काम, भेष बदल कर गए सिपाही के सामने मामला खुला

विश्वविद्यालय के निकट दुकान खोल कर बैठा था, मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने की कार्रवाई

By: Narendra Awasthi

Published: 10 May 2021, 06:56 PM IST

कानपुर. विकलांगता की आड़ में दिव्यांग ऐसा काम कर रहा था। जिसे देखकर पुलिस की भी आंखें चकरा गई। मुखबिर की सूचना पर नई उम्र के सिपाही को छात्र केेे रूप में दिव्यांग के पास भेजा गया जिससे वह पकड़ मेंं आया। लेकिन इस बीच उसने पुलिस को उलझाने का प्रयास किया। पुलिस ने एक नहीं सुनी और दिव्यांग को अपने साथ थाने ले आई। जिसके खिलाफ संगत धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कर विधिक कार्रवाई की गई।

 

मामला कल्याणपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत विश्वविद्यालय के निकट की है। मुखबिर से सूचना मिली कि दिव्यांग अपनी विकलांगता का फायदा उठाकर पान बीड़ी की दुकान से गांजा की बिक्री करता है। थाना कल्याणपुर अंतर्गत विश्वविद्यालय चौकी प्रभारी इंदु यादव ने दिव्यांग को रंगे हाथ पकड़ने की योजना बनाई और नई उम्र के सिपाही को छात्र के रूप में गांजा खरीदने के लिए दिव्यांग के पास भेजा। दिव्यांग समझ नहीं पाया कि आने वाला छात्र सिपाही है और उसने गांजा से भरी सिगरेट की डिब्बी छात्र के रूप में आए सिपाही को दे दी। इस पर तत्काल पुलिस ने उसे रंगे हाथ पकड़ लिया गया। इंदु यादव ने बताया कि दिव्यांग ने अपना नाम सागर शर्मा पुत्र मुन्नालाल शर्मा निवासी शिव विहार, पनकी रोड, थाना कल्याणपुर बताया जो मूलतः मुजाहिद नगर, सर्विस रोड थाना गोसाईगंज कानपुर का निवासी है। तलाशी लेने पर सागर शर्मा के पास से 460 ग्राम गांजा और गांजा से भरी हुई सिगरेट बरामद हुई। जिसके खिलाफ थाना में एनडीपीएस एक्ट के अंतर्गत मुकदमा दर्ज किया गया है।

Narendra Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned