जिलाधिकारी - सुनने में दिक्कत है, तो कान का इलाज करवा लो, नहीं तो मैं इलाज करवा दूं

- जिलाधिकारी की फटकार डीपीआरओ को

- वीडियो हुआ वायरल

 

By: Narendra Awasthi

Updated: 22 Jun 2020, 09:35 PM IST

उन्नाव. जिलाधिकारी द्वारा जिला पंचायत राज अधिकारी को लगाई गई। फटकार जनपद में चर्चा का विषय बना हुआ है। डीएम ने भविष्य में इस प्रकार की गलती ना होने के निर्देश दिए हैं। जिलाधिकारी व जिला पंचायत राज अधिकारी के बीच हुई बातचीत से प्रशासनिक महकमे में भी हड़कंप मचा हुआ है। जिस समय डीएम व डीपीआरओ के बीच वार्ता हो रही थी। उस समय मौके पर एडीएम व अतिरिक्त मजिस्ट्रेट भी बैठे थे।गौरतलब है जनपद को खुले में शौच से मुक्त घोषित करने के बाद भी शौचालय के मामले में जनपद की स्थिति काफी बदतर है। इस संबंध में जिलाधिकारी रविंद्र कुमार ने जिला पंचायत राज अधिकारी से खंड विकास अधिकारी को पत्र भेजकर जानकारी मांगी थी। लेकिन जिला पंचायत राज अधिकारी ने खंड विकास अधिकारियों को पत्र नहीं भेजा। जिससे जिलाधिकारी नाराज हुए और उन्होंने जिला पंचायत राज अधिकारी की क्लास लगा दी।

जिला अधिकारी व जिला पंचायत राज अधिकारी के बीच की बातचीत

जिलाधिकारी - चिट्ठी लिख रहे हो बीडीओ को तीन बार रिमाइंडर देना पड़ा है तुमको। अब मैं शौचालय के बारे में किसी और से नहीं पूंछूगा। मैं बीडीओ से मीटिंग नहीं करूंगा। मैं तुमसे पूछूंगा। इस गलतफहमी में ना रहना तुम कि यह बीडीओ से कह रहा हूं, तो मेरा काम है, यह तुम्हारा काम है और तुम्हारे विभाग का है। अब मैं केवल तुमसे पूंछूगा कि शौचालय बने कि नहीं और किसी से नहीं पूछूंगा, डीपीआरओ का काम है और डीपीआरओ को जवाब देना होगा। मैं 3 बार कह चुका हूं कि मेरी तरफ से बीडीओ को लेटर लिखा दो। जिसमें तुमको 3 दिन लग गया, यह मेरा काम है क्या, मेरा इंटरेस्ट है क्या ।

डीपीआरओ - सर के सामने की बात थी

जिलाधिकारी - क्या है, मैंने कहा था तो फाइल क्यों नहीं लाए। फिर मैंने कल कहा की फाइल कहां है तब तुमने कहा कि फाइल टाइप हो रही है ।

डीपीआरओ - सर ऐसा हो सकता है सुनने में दिक्कत हो गई हो ।

जिलाधिकारी - सुनने में दिक्कत है, तो कान का इलाज करवा लो, नहीं तो मैं इलाज करवा दूं।

डीपीआरओ - नहीं सर ऐसा कुछ नहीं है, सुनने में कोई दिक्कत नहीं है ।

जिलाधिकारी - भविष्य में आप ही से पूछा करूंगा और कैंप कार्यालय में रिपोर्ट लूंगा। शौचालय निर्माण की जिम्मेदारी अब आप ही की होगी।

डीपीआरओ - सर बड़ा काम है

जिलाधिकारी - जब कहा जा रहा है तो सुनते नहीं हो।

Narendra Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned