इस डीएम ने लोगों की खोली आंखें, मेरे गांव में किसी सरकार ने नहीं किया विकास, सभी सुनकर रह गए दंग

जिलाधिकारी एनजी रविकुमार ने अपने नाम का मतलब भी समझाया...

 उन्नाव. एक बार हमारे गांव आ कर देखिए गांव में आपको सारी सुविधाएं मिलेंगी और यह सारी सुविधाएं सरकार ने नहीं जो गांव से पढ़कर बाहर गए हैं। उन्होंने प्रदान की है। हमारे गांव में शत-प्रतिशत घरों में शौचालय है। गांव का प्राइमरी स्कूल दो मंजिला है। हमारे गांव में कोई बच्चा जमीन पर बैठकर नहीं पड़ता है। लाइब्रेरी में रोजाना 20 पेपर आते हैं। जिसमें गांव के सभी लोग जाकर पेपर पढ़ते हैं। निराला प्रेक्षागृह में प्रधानों के लिए आयोजित शिक्षा एवं स्वास्थ्य कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जिलाधिकारी एनजी रवि कुमार ने उक्त विचार व्यक्त किये। आज के कार्यक्रम में जिलाधिकारी ने अपने गांव और अपने नाम के विषय में भी चर्चा की और एनजी का मतलब समझाया। उन्होंने कहा कि उनके नाम में सबसे पहले एनजी आता है जिसमें 'एन' का मतलब नगते रेड्डी, जो उनके गांव का नाम है, 'जी' मेरे पिताजी का नाम पर है। उसके बाद मेरा नाम आता है। जिलाधिकारी ने बताया कि उनकी तरफ यही होता है। पहले आपको अपने गांव का नाम बताना पड़ेगा फिर पिता का नाम उसके बाद खुद का नाम। हमारा अस्तित्व गांव और पिता के बिना नहीं होता है।


स्वास्थ्य एवं शिक्षा गांव के बदलाव के लिए दो महत्वपूर्ण कार्यक्रम

जिलाधिकारी ने गांव में दे महत्वपूर्ण कार्यक्रमों स्वास्थ्य एवं शिक्षा में बदलाव की जरूरत है। प्रत्येक गर्भवती महिला के स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। यदि मां स्वस्थ्य होगी तो नवजात शिशु भी स्वस्थ्य होगा। प्रत्येक नवजात व 02 वर्ष तक के बच्चे को जानलेवा बीमारियों से बचाव हेतु पूर्ण प्रतिरण कराना जरूरी है। यह कार्य सभी ग्राम प्रधानों को अपनी नैतिक जिम्मेदारी के साथ निभाना है। उन्होने कहा कि ग्राम प्रधान अपने गांव में स्वास्थ्य कार्यक्रमों में सिरकत करें उसकी समीक्षा करें और देखें कि उनके गांव की सभी किशोरी, गर्भवती महिला व बच्चों के स्वास्थ्य की पूरी देखभाल हो। प्रत्येक कुपोषित बच्चों के उपचार की स्थिति से अवगत हो। उन्होने कहा कि प्रधान प्रत्येक बच्चे को शिक्षा दिलाने में सहयोग करें। स्वास्थ्य और शिक्षा के साथ-साथ स्वच्छता पर विशेष ध्यान देने के लिए प्रधानों को प्रेरित करें।


अपर निदेशक चिकित्सा स्वास्थ्य ने भी किया संबोधित

कार्यक्रम को अपर निदेशक चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण लखनऊ मंडल लखनऊ डॉक्टर अतुल मिश्रा, मुख्य विकास अधिकारी प्रेम रंजन सिंह मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर लालता प्रसाद आदि ने भी संबोधित किया। अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. आर. के. गौतम, दुर्गेश प्रसाद यादव जिला कार्यक्रम अधिकारी, बी.के.शर्मा जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी, डा. ए. के. रावत, डा. तन्मय कक्कड, जिला कुष्ठ अधिकारी डा. ए. के. मिश्रा, नगर स्वास्थ्य अधिकारी डा. बी.बी. दुबे, जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा.नरेन्द्र सिंह, जिला स्वास्थ्य शिक्षा एवं सूचना अधिकारी लाल बहादुर यादव, मधुर मोहन श्रीवास्तव, ए. के. शुक्ला, सरदार मनिन्दर सिंह, के. सी. पाण्डेय, जे. बी. पाण्डेय सहित बड़ी संख्या में ग्राम प्रधान व अधिकारीगण मौजूद थे।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned