पुजारी का रूप धारण कर 35 साल तक पुलिस को किया गुमराह, यूं अरेस्ट हुआ आरोपी

पुजारी का रूप धारण कर 35 साल तक पुलिस को किया गुमराह, यूं अरेस्ट हुआ आरोपी
पुजारी का रूप धारण कर 35 साल तक पुलिस को किया गुमराह, यूं अरेस्ट हुआ आरोपी

Karishma Lalwani | Updated: 26 Aug 2019, 06:00:29 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

- 1982 में हत्या के आरोप में पकड़ा गया था युवक

- कोर्ट से जमानत मिलने के बाद लापता हो गया आरोपी

- 35 साल बाद पुलिस ने पकड़ा आरोपी को

उन्नाव. कहते हैं कि इंसान अपने किए की सजा इसी जन्म में भुगतता है। ये बात सच भी है। फर्क सिर्फ इतना है कि किसी को पहले तो किसी को बाद मे उसके कर्मों का फल मिलता है। उत्तर प्रदेश के उन्नाव में ऐसा ही एक मामला सामने आया। यहां हत्या (Murder) के एक आरोपी को 35 साल बाद पकड़ा गया। 1982 में शेष नारायण शास्त्री 20 साल के थे, तब मंजरा गांव में उनपर अपने पड़ोसी की हत्या का आरोप लगा। पुलिस की गिरफ्त से बचने के लिए वे इतने सालों तक अपनी लोकेशन और वेश बदलकर रहते थे।

शेष नारायण शास्त्री की लोकेशन उनके फोन ने पुलिस को दी। पुलिस ने बताया कि शास्त्री एक पुजारी का वेश बनाकर रहता था और लगातार अपनी लोकेशन बदलता रहता था। पिछले सालों में उसके कई मोबाइल नंबर बदले। इससे उसे ट्रैक कर पाना मुश्किल हो गया था। अजगैन पुलिस थाना प्रभारी अजय राज वर्मा ने कहा कि शेष नारायण शास्त्री के बारे में कोई कुछ खास बता पाने में असक्षम था क्योंकि वह लगातार अपनी लोकेशन और मोबाइल नंबर बदलता रहता था।

जमानत मिलने के बाद लापता

पुलिस के मुताबिक, 1982 में बाबू सिंह की हत्या के लिए शास्त्री पर मुकदमा दर्ज हुआ था। इस वारदात में उनके साथ नौ अन्य लोगों का नाम भी शामिल था। 1983 में कोर्ट से जमानत मिलने के बाद शास्त्री लापता हो गया। 1984 में सभी आरोपियों को दोषी ठहराया गया और उम्रकैद की सजा हुई, मगर शास्त्री का ट्रायल पूरा नहीं हो पाया।

2013 में हुए थे गिरफ्तार

आरोपी शास्त्री ने पुलिस पूछताछ में बताया कि 2013 में कानपुर के बर्रा थाने की पुलिस ने उसे एक लड़की के दुष्कर्म और हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया था। हालांकि, गिऱफ्तारी की जानकारी उन्नाव पुलिस को नहीं दी गई। शास्त्री को उन्नाव के सोनिक से पुलिस ने पुजारी के भेष में गिरफ्तार किया।

ये भी पढ़ें: पुलिस अभिरक्षा में अभियुक्त की मौत, परिजनों ने लगाया पीट-पीट कर मारने का आरोप

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned