विशेष न्यायाधीश की तहरीर पर अधिवक्ताओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज, अदालत के अंदर मारपीट का आरोप

24 मार्च को विशेष न्यायाधीश ने सदर कोतवाली में तहरीर देकर एफआइआर दर्ज करने की मांग की थी, आज उन्होंने अपना इस्तीफा भी दिया

 

By: Narendra Awasthi

Updated: 26 Mar 2021, 11:35 PM IST

उन्नाव. विशेष न्यायाधीश पॉक्सो एक्ट ने सदर कोतवाली में तहरीर देकर बाल अध्यक्ष सहित अन्य अधिवक्ताओं के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कराने की मांग की थी। अपनी तहरीर में उन्होंने लिखा था कि बार अध्यक्ष सहित एक सैकड़ा से अधिक वकील उनके कोर्ट में घुसकर गाली गलौज और मारपीट की साथ ही उनका मोबाइल भी छीन लिया विगत 24 मार्च को दी गई तहरीर पर आज तीसरे दिन सदर कोतवाली पुलिस ने तहरीर के आधार पर संगत धाराओं में मुकदमा पंजीकृत किया है।

 

सदर कोतवाली में दर्ज हुआ मुकदमा

सदर कोतवाली पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार तहरीर में दिए गए नामों के खिलाफ धारा 332, 353, 504, 506, 394, 427 आईपीसी का 7CLA के अंतर्गत मुकदमा दर्ज किया गया है। जिसमें राम शंकर सिंह, जितेंद्र सिंह, सतीश शुक्ला, गिरीश मिश्रा, विनोद पाठक, सुरेश तिवारी ,हरी सिंह ,महेंद्र बहादुर सिंह ,गुलाब सिंह, बृजेंद्र शुक्ला, धर्मेंद्र त्रिवेदी, वीरेंद्र सिंह, अशोक कुमार शुक्ला ,रामप्रताप लोधी, राम सुमेर यादव, ओम प्रकाश अवस्थी, चंदन, अजय द्विवेदी, रूप नारायण सिंह, जितेंद्र, अनिल कुमार राजपूत, योगेंद्र कुमार, शिव शंकर निषाद, पीके दीक्षित, आफताब अहमद एवं अन्य लोग शामिल है। विशेष न्यायाधीश पॉक्सो एक्ट प्रह्लाद टंडन ने राज्यपाल हाई कोर्ट जिला जज को पत्र भेजकर बताया है कि व व्यक्तिगत व पारिवारिक कारणों से अपने पद से इस्तीफा दे रहे हैं।

Narendra Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned