जल निगम में नौकरी दिलाने के नाम पर जालसाजी, 50 लाख से अधिक की ठगी, दो गिरफ्तार

- नौकरी के नाम पर 2 दर्जन से अधिक बेरोजगारों को बनाया शिकार

- फर्जी नियुक्ति पत्र व प्रशिक्षण प्रमाण पत्र से हुआ खुलासा

By: Narendra Awasthi

Published: 16 Sep 2020, 02:08 PM IST

उन्नाव. अचलगंज थाना पुलिस ने जलकल विभाग में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले दो अभियुक्तों को गिरफ्तार कर घटना का खुलासा किया है। इस संबंध में थाना में पीड़ित की तरफ से अभियोग पंजीकृत कराया गया था। अचलगंज थाना प्रभारी ने बताया कि गिरफ्तार युवकों को न्यायालय में पेश किया गया है। गौरतलब है इस संबंध में दो दर्जन से ज्यादा ठगी के शिकार हुए दो रोजगार युवाओं ने थाना में तहरीर देकर न्याय की गुहार लगाई है।

 

दो अभियुक्तों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

इस संबंध में कोतवाली प्रभारी अचलगंज ने बताया कि विगत 12 सितंबर को अवधेश कुमार पुत्र रामाश्रय निवासी कस्बा थाना हसनगंज, अनिल कुमार पुत्र राम बालक, विवेक झा पुत्र नित्यानंद, जय सिंह पुत्र योगेश, मुकेश कुमार सोनकर पुत्र चंद्रिका प्रसाद, देव कुमार पुत्र संजय, चांद आलम पुत्र सपन आदि ने सत्य प्रकाश श्रीवास्तव पुत्र स्वर्गीय नंदकिशोर, कुलदीप श्रीवास्तव पुत्र ओमप्रकाश के खिलाफ फर्जी तरीके से जलकल विभाग में पंप ऑपरेटर की नौकरी दिलाने के नाम पर पैसे लेने की तहरीर दिया गया। उपरोक्त तहरीर पर थाना में दोनों के खिलाफ आईपीसी की धारा 419/ 420/ 406/ 468/ 471 के अंतर्गत मुकदमा दर्ज किया गया था। विगत 15 सितंबर को शाम 5:30 बजे लोहचा तिराहे से सत्य प्रकाश व कुलदीप श्रीवास्तव को गिरफ्तार कर उनके पास से साथ फर्जी मुहर बरामद की गई।

 

फर्जी मोहर बरामद

फर्जी मोहर मेंं आयोग परीक्षा अधिकारी उत्तर प्रदेश, मुख्य प्रबंधक स्वास्थ विभाग उत्तर प्रदेश, संजय कुमार सिंह संबंधित जलकल विभाग उत्तर प्रदेश, आयोग सचिव उत्तर प्रदेश, जल प्रभारी उत्तर प्रदेश शासन, जल निगम प्रबंधक लखनऊ, मुख्य सचिव स्वास्थ्य विभाग शामिल हैं। इसके साथ ही बड़ी संख्या में आधार कार्ड भी बरामद किया गया। पकड़ने वाली टीम में एसआई देवेंद्र सिंह भदोरिया, कांस्टेबल अरुण कुमार सिंह, विष्णु कुमार, हरिबाबू शामिल थे।

Narendra Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned