उन्नाव गैंगरेप मामले में लड़की के चाचा ने लगाए गंभीर आरोप, कहा- हम लोगों को गेस्ट हाउस में किया कैद

Nitin Srivastava

Publish: Apr, 17 2018 10:32:13 AM (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
उन्नाव गैंगरेप मामले में लड़की के चाचा ने लगाए गंभीर आरोप, कहा- हम लोगों को गेस्ट हाउस में किया कैद

दुष्कर्म पीड़िता के चाचा ने सिंचाई विभाग के गेस्ट हाउस को बताया टेंप्रेरी जेल...

उन्नाव. अगर हम लोगों को शिफ्ट नहीं किया गया तो हम लोग अनशन कर देंगे। हम लोगों को सुरक्षा दे दी जाए बाकी हम लोग अपनी रहने की व्यवस्था कर लेंगे। शासन तंत्र हमारी आवाज दबाने की कोशिश कर रहा है। इसलिए हम लोग यहां रहना नहीं चाहते। एक प्रश्न के उत्तर में पीड़िता के चाचा ने कहा कि CBI की जांच सही दिशा में चल रही है। हम शुरू से कह रहे थे। सीबीआई जांच करा दी जाए। लेकिन शासन नहीं करा रहा था। केंद्रीय जांच ब्यूरो के द्वारा ले जाई गई पीड़िता व उसके परिवारीजनों को वापस सिंचाई विभाग के गेस्ट हाउस में छोड़ दिया गया। जहां पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए पीड़िता के चाचा ने उक्त विचार व्यक्त किया।

 

सिंचाई विभाग के गेस्ट हाउस में कोई सुविधा नहीं

उन्होंने कहा कि सिंचाई विभाग के गेस्ट हाउस में किसी भी प्रकार की कोई सुविधा नहीं है। ना यहां लैट्रिन की सुविधा है और ना ही नहाने की सुविधा। पीड़िता के चाचा ने कहा कि समझिए हम लोग टेंप्रेरी जेल में रह रहे हैं। हम लोगों को गेस्ट हाउस में कैद कर दिया गया है। जेल में भी सुबह व शाम के समय खाना मिल जाता है। यहां वह भी नहीं है। हम लोगों ने डिसाइड किया है कि होटल में रहेंगे। प्रशासन सुरक्षा देना चाहे तो दे वरना न दे। अपना खाएंगे अपना पिएंगे और अपनी लड़ाई लड़ेंगे। सुबह से हम लोगों को यहां पर पानी तक नहीं मिला है। एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि सुरक्षा ठीक है, सुरक्षा में कोई दिक्कत नहीं है। परंतु सुरक्षा में भी यह दिक्कत है कि अगर हम किसी से मिलना चाहते जाना चाहते हैं तो हम किसी से मिल नहीं सकते। सुरक्षा का मतलब यह है कि हम जिस से मिलने जाए सुरक्षा मेरे साथ जाए। परंतु आज की तारीख में यदि हमें कहीं जाना है तो हम उच्च अधिकारियों से बातचीत करें और इसमें काफी समय निकल जाता है।

 

दुश्मन को बताया ताकतवर

पिता के चाचा ने कहा दुश्मन ताकतवर है। सरकार में शामिल है। शासन तंत्र उसका है। जनपद में 5-5 विधायक हैं। हमने आज तक किसी विधायक को नहीं देखा। सांसद यहां BJP का है। परंतु BJP का कोई भी नेता जाकर पीड़िता से मिल लेते, दो शब्द बोल लेते। परंतु किसी ने कुछ नहीं कहा। एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि पुलिस अधीक्षक को मैंने एक तहरीर दी है। वही केंद्रीय जांच ब्यूरो को लड़की का जन्म प्रमाण पत्र भी दिया है। जो शैक्षणिक प्रमाण पत्र है। इससे यह साबित होता है कि लड़की नाबालिग है। केंद्रीय जांच ब्यूरो की टीम ने पीड़िता से क्या पूछा है क्या सवाल जवाब किया है। इस विषय में पीड़िता के चाचा ने कहा कि मुझे नहीं पता है।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

1
Ad Block is Banned