औद्योगिक क्षेत्र की चिमनियां उगल रही है जहर, प्रदूषण नियंत्रण देख रहा है तीसरी मंजिल से

औद्योगिक क्षेत्र की चिमनियां उगल रही है जहर, प्रदूषण नियंत्रण देख रहा है तीसरी मंजिल से

Abhishek Gupta | Publish: Nov, 14 2017 05:59:55 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

बदबू शुरू तो समझो उन्नाव शुरू.

उन्नाव. शहर की आबोहवा को प्रदूषित करने में औद्योगिक घरानों का महत्वपूर्ण योगदान है। उद्योगों में स्थापित चिमनियों से निकलने वाला जहरीला केमिकल युक्त धुआं शहर वासियों के लिये बीमारी दे रहा है। इस दिशा में एनजीटी ने तमाम प्रयास किये हैं। कई प्रकार के प्रतिबंध भी लगाये हैं। परंतु जिनकी नींव ही भ्रष्टाचार से भरी हो। उसे ठीक करना टेढ़ी खीर है। आज उन्नाव शहर की पहचान बदबू है। शहर के दोनों छोर के प्रवेश मार्ग पर आपको सोते हुये इस बात का एहसास करा देंगे कि उन्नाव शुरू हो गया है। बदबू की तेज झार आपको अंदर तक झकझोर देगी। औद्योगिक क्षेत्र से पांच सौ मीटर की दूरी पर स्थित प्रदूषण कार्यालय तीसरे खंड में बैठ कर चिमनियों से निकलते जहर को देखा करता है कि कितनी चिमनियां धुआं उगल रही है।

स्टेडियम आने वालों से पूछो कितना प्रदूषण है शहर में

शहर का औद्योगिक स्वरूप नगरवासियों के लिये अभिशाप बन गया है। सुबह टहलने के लिये निकलने वाले लोगों को इस बात का एहसास उस समय होता है जब स्मॉग के साथ चिमनियों से निकलने वाला काला विषैला पदार्थ उन्हें बेचैन करता है। लखनऊ-कानपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित औद्योगिक क्षेत्र दही चौकी से शुरू होकर नाले तक आता है। वहीं इसी प्रकार का एक औद्योगिक क्षेत्र कानपुर की तरफ बंथर में स्थापित किया गया है। दही चौकी स्थित औद्योगिक क्षेत्र में जहरीला धुआ उगलती दर्जनों चिमनियां है जो वातावरण को प्रदूषित ही नहीं कर रही है बल्कि आम लोगों को बीमारी बांट रही है। इस संबंध में स्टेडियम में टहलने आने वालों ने बातचीत के दौरान बताया कि यहां पर वह स्वास्थ्य लाभ लेने के लिये आते हैं। परंतु यहां पर फैक्ट्री एरिया से निकलने वाला जहरीला धुआ उन्हें बेचैन कर देता है।

जाड़े के मौसम में इसका ज्यादा प्रभाव दिखायी पड़ता है। जब कोहरे के कारण चिमनियों से निकलने वाला जहरीला धुआ ओस के कारण वातावरण में नहीं मिल पाता है और यह नीचे ही बना रहता है। उन्होंने बताया एनजीटी का आदेश सामूहिक होता है। जहां वाहन बड़ी संख्या में चल रहे हैं। वहां वाहन इसके लिये दोषी हो सकते हैं। परंतु उन्नाव शहर के लिये तो यहां की फैक्ट्री ही मुख्य दोषी है। स्टेडियम आने वाले राजेन्द्र, अमित सिंह, राजेश कुमार, गोलू, कुलदीप, सीबू आदि लोगों ने जिला प्रशासन से फैक्ट्री एरिया से निकलने वाले जहरीले धुएं पर रोक लगाने की मांग की है।

Ad Block is Banned