कोविड-19 ने अमृत योजना पर लगाई ब्रेक, डीएम के निरीक्षण में हकीकत आई सामने

- जिलाधिकारी ने गंगाबैराज तथा देवराकला में बन रहे ट्रीटमेन्ट प्लान्ट का किया निरीक्षण

- उन्नाव शुक्लागंज पेयजल अमृत योजना की प्रगति की स्थलीय निरीक्षण:

- सड़को को तत्काल पाइप लाइन डालने के उपरान्त सड़क सही कराने के निर्देश

By: Narendra Awasthi

Published: 29 Jun 2020, 08:52 PM IST

उन्नाव. अटल नवीनी करण एवं शहरी रूपान्तरण मिशन अमृत, उन्नाव शुक्लागंज पेय जल योजना का जिलाधिकारी रवीन्द्र कुमार ने गंगा बैराज तथा देवारा कला में बन रहे ट्रीटमेंट प्लांट का निरीक्षण किया। सिंचाई विभाग के तहत से बने टेनल को देखा। इस मौके पर परियोजना प्रबन्धक के. के. कटियार जल निगम ने बताया कि कानपुर एवं उन्नाव की जलापूर्ति के लिए 18 एमएलडी पानी आपूर्ति के लिए योजना क्रियान्वित है। इस योजना की स्वीकृत लागत रूपये 25351.53 लाख (फेज-01) के लिये है। जो केन्द्र एवं प्रदेश सरकार के लाभांश के तहत कार्य कराया जा रहा है। यह परियोजना जुलाई 2020 तक पूरा होना था। लेकिन कोरोना वायरस के कारण कार्य प्रभावित होने एवं रेल विभाग द्वारा एनओसी समय से न मिल पाने के कारण कार्य की प्रगति धीमी हुई है।

दिसंबर 2020 तक योजना पूरी होने की संभावना

जिलाधिकारी ने कार्यदायी संस्था उत्तर प्रदेश जल निगम को निर्देश दिये है कि इस योजना को युद्ध स्तर पर चालू कराकर दिसम्बर 2020 में प्रत्येक दशा में चालू कराया जाये। गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखा जाये। जिलाधिकारी देवारा कला जाकर अमृत योजना के तहत स्थापित किये जा रहेे ट्रीटमेन्ट प्लान्ट आदि के बारे में विस्तार से जानकारी ली। ओवर हेड टैंक, इन्टैक्स बैल तथा वाटर ट्रीटमैन्ट प्लान्ट के बारे में निर्देश दिये कि गाइड लाइन के अनुसार कार्य पूरा कराया जाये।

योजना को गुणवत्तापूर्ण पूरा करने के निर्देश

मैसर्स ईएमएस और जीडीसीएल के परियोजना प्रबन्धक आई. डी. सिंह ने जिलाधिकारी को आश्वस्थ करते हुये कहा कि अटल नवीनी करण एवं शहरी रूपान्तरण मिशन (अमृत) उन्नाव शुक्लागंज पेय जल योजना को निर्धारित अवधि में पूरा कराकर उन्नाव वासियों को अमृत योजना के तहत लाभाविन्त किया जायेगा। जिलाधिकारी ने निर्देश दिये है कि नगर में जिन सड़को पर सड़क खोदकर पाइप डाले जा रहे। उन सड़को को तत्काल पाइप डालने के उपरान्त सड़क सही करायी जाये। ताकि नगर वासियोें को आवगमन में अनावश्यक कठिनाईयों का सामना न करना पडे। जिन स्थानों पर अभी पाइप आदि का कार्य नहीं हुआ है तत्काल पूरा कराया जाये। इस अवसर पर जलनिगम से जुडे कई अभियंता एवं उपनिदेशक सूचना डा. मधु ताम्बे आदि उपस्थित रहे।

Narendra Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned