मालती रावत - कमिश्नर पति के माध्यम से उन्हें भाजपा कार्यालय बुलाया गया, पति की नौकरी से बढ़कर कुछ नहीं

मतदान के पश्चात पत्रकारों से बातचीत करते हुए मालती रावत ने कहा उनके लिए पति की नौकरी से बढ़कर कुछ नहीं है

By: Narendra Awasthi

Updated: 03 Jul 2021, 09:34 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क

उन्नाव. समाजवादी पार्टी की जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए बनाए गई प्रत्याशी मालती रावत ने प्रदेश सरकार पर गंभीर आरोप लगाया है। साथ ही सपा पर भी तीखे प्रहार किए हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा से मिलकर वापस आने के बाद समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता अधिकारियों ने उन्हें शेरनी कहा था और 24 घंटे के अंदर ही उन्हें पार्टी से निकाल दिया। उनकी प्रत्यास्थता भी खत्म कर दी। उनसे किसी भी प्रकार का स्पष्टीकरण नहीं लिया गया।

सपा को भी लिया निशाने पर

समाजवादी पार्टी ने जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए मालती रावत को अपना प्रत्याशी घोषित किया था। नामांकन के बाद से ही लगातार मालती रावत विवादों में थी। लेकिन समाजवादी पार्टी के एमएलसी सुनील सिंह साजन, जिलाध्यक्ष धर्मेंद्र यादव सहित सभी मालती रावत के साथ खड़े दिखाई पड़े। लेकिन अचानक जिला अध्यक्ष धर्मेंद्र यादव ने मालती रावत को पार्टी के सभी पदों से हटाते हुए उन्हें प्रत्याशिता से मुक्त करने का पत्र जारी कर दिया। जिसके बाद लगातार मालती रावत अपना बयान जारी कर रहे हैं। आज अपना मत डालने के बाद मालती रावत ने पत्रकारों से बातचीत की। उन्होंने कहा कि उनके पति कमिश्नर हैं। जिनके माध्यम से उनके पास खबर पहुंची। मुझे बुलाया गया। मेरे ऊपर दबाव था यदि मुझे जाना होता तो मेरे लिए अच्छा मौका था मेरे लिए पति की नौकरी से बढ़कर कुछ नहीं है भाजपा पापड़ को ठुकरा कर यहां आई थी पति की नौकरी का दबाव था

Narendra Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned