मिशन इंद्रधनुष का तृतीय चरण, छूटे हुए बच्चों के लिए मौका

Nitin Srivastava

Publish: Dec, 08 2017 07:39:48 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
मिशन इंद्रधनुष का तृतीय चरण, छूटे हुए बच्चों के लिए मौका

7 से 18 दिसंबर के बीच 20097 बच्चों का होगा टीकाकरण, 360 चैनल की निगरानी के लिए लगाए गए 92 सुपरवाइजर व 64 सेक्टर चिकित्साधिकारी...

उन्नाव. जिन ब्लॉक में मिशन इंद्रधनुष के अंतर्गत कराए जा रहे टीकाकरण का कार्य संतोषजनक नहीं पाया जाएगा। उन चिकित्सा प्रभारी व कर्मियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। टीकाकरण का तृतीय चक्र छूटे हुए बच्चों के लिए एक अतिरिक्त अवसर मिल रहा है। इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही अक्षम्य है। सभी प्रतिरक्षित बच्चों को आगामी 7 दिसंबर से 18 दिसंबर तक टीकाकरण से आच्छादित करना है। टीकाकरण सत्र की सघन मॉनिटरिंग कराई जा रही है। ग्राम मोहल्लों में 0 से 2 साल तक के बच्चों अधुनान्त डयूलिस्ट के अनुसार टीकाकरण कराएं। उमाशंकर दीक्षित संयुक्त चिकित्सालय में इंद्रधनुष मिशन के अंतर्गत कराए जा रहे टीकाकरण के तृतीय चक्र का शुभारंभ करते हुए उक्त विचार जिला अधिकारी रवि कुमार एनजी ने व्यक्त किये।

 

9 दिसंबर को होगी टीकाकरण की समीक्षा

उन्होंने कहा कि टीकाकरण अभियान के प्रत्येक दिवस की फीडबैक समीक्षा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर मौजूद सुपरवाइजर एवं सेक्टर चिकित्सा अधिकारियों के साथ अवश्य की जाए। उन्होंने कहा कि आगामी 9 दिसंबर को सभी ब्लॉक के प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों और अपर व उप मुख्य चिकित्सा अधिकारियों की बैठक की जाएगी। जिला अधिकारी रवि कुमार एनजी ने कहा कि जिन ब्लॉक के कार्य संतोषजनक नहीं पाए जाएंगे। उन ब्लॉक प्रभारी चिकित्सा अधिकारी व कर्मियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि मिशन इंद्रधनुष आप प्रतिरक्षित बच्चों के लिए एक अतिरिक्त अवसर प्रदान किया गया है। इस अभियान के दौरान सभी चिकित्सा अधिकारी व कर्मचारी निष्ठा व इमानदारी से मिशन इंद्रधनुष की सफलता के लिए कार्य करें और वंचित बच्चों का शत प्रतिशत प्रतिरक्षण कार्य सुनिश्चित कराया जाए।


असंतोषजनक कार्य में प्रभारी चिकित्सा अधिकारी होंगे जिम्मेदार - मुख्य चिकित्सा अधिकारी

इस मौके पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ राजेंद्र प्रसाद ने कहा कि 2 वर्ष तक की आयु के लक्षित 20097 बच्चों को सुनिश्चित टीकाकरण कराने के लिए 360 एनम को लगाया गया है। टीकाकरण सत्र की मॉनिटरिंग के लिए 92 सुपरवाइजर और 64 सेक्टर चिकित्सा अधिकारी लगाए गए हैं। जो घूम फिर कर अच्छादित बच्चों को देखेंगे। जिन ब्लॉकों की उपलब्धि संतोषजनक नहीं पाई जाएगी। वहां के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी सीधे जिम्मेदार होंगे। मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने कहा कि इस महत्वपूर्ण टीकाकरण में किसी भी प्रकार की लापरवाही उदासीनता क्षम्य में नहीं है। टीकाकरण के इस कार्य में आंगनवाड़ी सहायिका और आशा अपने क्षेत्र के बच्चों के शत प्रतिशत टीकाकरण कराने के लिए कार्य करेंगी। इस अवसर पर डॉक्टर एस पी चौधरी, डॉ एके रावत डॉ ऋषि सक्सेना, एस आर सी डॉक्टर पुनीत कुमार, smo who डॉक्टर सी. लाल, डॉ मनोज कुमार निगम, डॉ तन्मय कक्कड़, यूनिसेफ से डॉ आदित्य पांडे, डॉक्टर जे आर सिंह, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक महिला डॉक्टर अंजू दुबे, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक पुरुष डॉक्टर डीके द्विवेदी, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ राजेंद्र, कोल्ड चैन मैनेजर नीरज निगम, जिला स्वास्थ्य अधिकारी लाल बहादुर यादव, ममता श्रीवास्तव, डॉक्टर अनूप अग्रवाल, मनिंदर सिंह सहित अन्य स्वास्थ्य कर्मी व डॉक्टर मौजूद थे।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned