एफआईआर दर्ज न करना भी अपराध - रिटायर डीआईजी रतन कुमार श्रीवास्तव

- महिलाओं के अधिकार व सुरक्षा हेतु बनाए गए नियम कानून को पाठ्यक्रम में शामिल करने की मांग की

 

By: Narendra Awasthi

Published: 19 Jan 2021, 09:56 AM IST

उन्नाव. एफआईआर दर्ज ना करना भी अपराध है। मुकदमा दर्ज न करने वाले थानाध्यक्ष के खिलाफ आईपीसी की धारा में प्राविधान है। वुमन एंपावरमेंट फाउंडेशन के संस्थापक व अध्यक्ष रिटायर्ड आईपीएस रतन कुमार श्रीवास्तव ने उक्त विचार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि निर्भया कांड के बाद जस्टिस वर्मा की अध्यक्षता में कमेटी बनाई गई थी। कमेटी के रिकमेंड पर आईपीसी में संशोधन किया गया और आईपीसी की धारा 166a बना था। जिसमें कहा गया है कि अगर किसी महिला के साथ यौन उत्पीड़न घटना घटती है और शिकायत मिलने पर यदि एफ आईआर दर्ज नहीं किया जाता है तो वह भी दण्डनीय अपराध है। ऐसे में थानाध्यक्ष के खिलाफ कार्रवाई की जाती है।

योगी सरकार महिला अपराधों के प्रति सजग

रिटायर्ड डीआईजी ने बताया कि प्रदेश की योगी सरकार महिलाओं की सुरक्षा के प्रति सजग है। केवल महिलाओं को कानूनों के प्रति सजग रहने की आवश्यकता है। वूमेन एंपावरमेंट फाउंडेशन महिलाओं से जुड़े कानूनों के प्रति लोगों को जागरूक करने का काम करती है। वैश्विक परिपेक्ष में महिलाओं की स्थिति का अध्ययन करने का भी काम करती है। महिलाओं की सुरक्षा व सशक्तिकरण के लिए संस्था विभिन्न सर्वेक्षण, अध्ययन, शोध, विश्लेषण व स्थिति का मूल्यांकन करती है। जिससे महिलाओं को उनके अधिकारों के प्रति सजग किया जा सके।

पाठ्यक्रम में शामिल करने की मांग

उन्होंने महिलाओं के अधिकार और सुरक्षा हेतु बनाए गए नियम कानून को पाठ्यक्रम में शामिल करने की मांग की। साथ ही महिलाओं के संरक्षक व माता-पिता के लिए भी जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करने की जानकारी दी। स्थानीय इंटर कॉलेज में आयोजित कार्यक्रम में रिटायर्ड डीआईजी ने जनपद में संस्था के पदाधिकारियों से परिचय कराया। इस मौके पर सीनियर जर्नलिस्ट अनिल सिंदूर, डॉ मनीष सिंह सेंगर, प्रभा यादव, आशीष श्रीवास्तव सहित अन्य लोग मौजूद थे।

शहर के सन डी सन इन्टर कालेज में उन्नाव के पूर्व एस पी रहे सेवानिवृत्त डी आई जी श्री रतन कुमार श्रीवास्तव जी की पत्रकार वार्ता। इस दौरान कालेज की प्रबंधिका श्रीमती तबस्सुम नफीस, नीना दीक्षित, मनीष सिंह सेंगर, डा. शशि रंजना , आशीष श्रीवास्तव मौजूद रहे

Narendra Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned