पुराना गंगा पुल बंद, नया गंगा पुल जाम, आवागमन बना दुष्कर

लखनऊ कानपुर राजधानी मार्ग पर बना 150 साल पुराना पुल यातायात के लिए पूरी तरह बंद होने से उन्नाव कानपुर के बीच आवागमन कष्टदायक हो गया है। गंगा पुल की चार कोठियों में दरार आने के बाद पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों ने निरीक्षण किया।

By: Narendra Awasthi

Published: 06 Apr 2021, 07:46 PM IST

उन्नाव. अंग्रेजों के शासनकाल के दौरान बनाया गया पुल को यातायात के लिए प्रतिबंधित कर दिया गया है। अब वाहन व पैदल यात्रियों को गुजरने नहीं दिया जाएगा। जिला प्रशासन ने इस संबंध में आदेश जारी करते हुए बताया कि पुल की कोठी में दरारे आ गई है। जिससे पुल गिरने का खतरा हो गया है। इधर पुराने पुल के बंद होने से नए पुल में दिन भर जाम की स्थिति बनी रही। यातायात के संचालन में पुलिस को पसीना बहाना पड़ा। अंग्रेजों द्वारा बनाए गए पुल में ऊपर से वाहनों का आवागमन होता है जबकि नीचे पैदल वाले आते जाते हैं। पुराने पुल से वाहनों को एक तरफ से छोड़ा जाता था। जाजमऊ में गंगा का पुल बनने के बाद पुराने पुल को भारी वाहनों के लिए पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया गया था।

लखनऊ कानपुर के बीच आवागमन के लिए ब्रिटिश शासन द्वारा 1857 में पुल बनाया गया था। जिसकी मियाद 100 साल की बताई गई थी। पुल की लंबाई लगभग 1 किलोमीटर की है। जिसमें कुल 24 कोठियां बनाई गई थी। सोशल मीडिया पर कोठियों में आई दरार की फोटो वायरल होने के बाद पीडब्ल्यूडी विभाग का ध्यान पुल की तरफ गया। कानपुर और लखनऊ की टीम ने पुल का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान सामने आया कि कोठी नंबर 2,10,17, 22 में दरारें आ गई हैं। जिससे पुल के गिरने का खतरा बढ़ गया है। इस संबंध में अधिशासी अभियंता प्रांतीय खंड मुकेश चंद्र शर्मा ने बताया कि कोठियों में दरार के कारण पुल खतरनाक स्थिति में पहुंच गया है। पुल कभी भी धराशाई हो सकता है। इसलिए पुल का यातायात बंद करा दिया जाएगा। कानपुर और लखनऊ की संयुक्त टीम के निरीक्षण के बाद जिला प्रशासन ने गंगा पुल को आज मंगलवार आधी रात से बंद कर दिया। वही आईआईटी कानपुर की मदद से पुल की स्थिति का आकलन कराने की योजना है।

प्रशासन ने आवागमन के लिए नए पुल का विकल्प दिया है। लेकिन नए पुल के आगे कानपुर की तरफ फ्लाईओवर का निर्माण कार्य चल रहा है। जिसकी वजह से रास्ता काफी सकरा हो गया है और यातायात को एक तरफ से ही चलाया जा रहा है। जिसकी वजह से आज दिनभर जाम की स्थिति बनी रही। गौरतलब है उन्नाव और शुक्लागंज से हजारों की संख्या में वाहन से लोग नौकरी करने के लिए कानपुर जाते हैं। इसके अतिरिक्त व्यापारी, एंबुलेंस बड़ी संख्या में कानपुर आवागमन करते हैं। पुराने गंगा पुल पर आवागमन बंद करने के पश्चात नये गंगा पुल पर भार काफी बढ़ गया है। जिसको संभालना पुलिस के लिए चुनौती है।

Narendra Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned