एक कबूतर की वजह से गई बुजुर्ग की जान, पुलिस ने कहा गिरने से लगी चोट

एक बुजुर्ग को कबूतरबाजी का खेल खेलना महंगा पड़ गया। एक कबूतर की वजह से उसे अपनी जान गंवानी पड़ गई। दरअसल, वार्ड खानजादा निवासी 60 वर्षीय रज्जाक कबूतर पाले थे। रविवार दोपहर पड़ोसी मोहल्ला मियां टोला निवासी सलमान उसके घर आया

By: Karishma Lalwani

Updated: 27 Jul 2020, 12:39 PM IST

उन्नाव. एक बुजुर्ग को कबूतरबाजी का खेल खेलना महंगा पड़ गया। एक कबूतर की वजह से उसे अपनी जान गंवानी पड़ गई। दरअसल, वार्ड खानजादा निवासी 60 वर्षीय रज्जाक कबूतर पाले थे। रविवार दोपहर पड़ोसी मोहल्ला मियां टोला निवासी सलमान उसके घर आया। अपना कबूतर उसके घर के अंदर घुसा होने की बात कहकर वापस मांगा। इस पर रज्जाक के बेटे अब्दुल अहमद और दुकान पर बैठे अयान ने इन्कार कर दिया। इसी को लेकर बहस होने लगी तभी गुस्से में सलमान ने फोन कर अपने कई साथियों को बुलाकर अब्दुल व अयान को पीटना शुरू कर दिया।

बीच बचाव में आए रज्जाक की मौत

शोर सुनकर रज्जाक बीच-बचाव करने लगे। सलमान और उसके साथियों ने लाठी-डंडे और लात घूसों से हमला किया। इसके बाद वे भाग गए। स्थानीय लोगों ने उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया जहां डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। इसके बाद सीओ रमेश चंद्र व कोतवाल अनिल कुमार सिंह ने मौके पर पहुंचकर छानबीन की। सीओ ने बताया कि मृतक के बेटे की तहरीर पर सलमान, नसीम, भूरे और आस मोहम्मद के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मुकदमा दर्ज कर आरोपितों की तलाश शुरू की है।

कबूतर को लेकर हुए विवाद में रज्जाक को अपनी जान गंवानी पड़ी। हालांकि, पुलिस ने इस बात से इंकार करते हुए कहा है कि रज्जाक की मौत गिरने से हुई है। उधर, रज्जाक की पत्नी व बच्चों का आरोप है कि सलमान और उसके साथियों ने रज्जाक को लहू लुहान कर मारा है।

यहां चरम पर है कबूतरबाजी का खेल

उन्नाव के पुरवा और मौरावां समेत दूसरे स्थानों पर कबूतरबाजी का खेल चरम पर है। इसमें कबूतरबाज खूब रुपये लुटाते हैं, जिसकी वजह से अक्सर मारपीट भी होती है। कबूतरबाज अपने-अपने घरों से तय समय पर कबूतर उड़ाते हैं, जिसके कबूतर सबसे बाद में उतरते हैं, वह ही जीतता है। खेल में कबूतरबाज एक-दूसरे के घरों में अपने अंपायर बिठाते हैं, जो जीत-हार की घोषणा करते हैं। इसमें इनाम की राशि भी काफी अधिक होती है, जो पहले, दूसरे और तीसरे स्थान पर आने वालों को दी जाती है। इस खेल में दूसरे लोग भी सट्टा लगाते हैं।

रज्जाक ने अपने घर में कबूतर पाला था। उसके कबूतर को लेने के लिए आए सलमान को जब कबूतर नहीं मिला तो उसने अपने दोस्तों संग रज्जाक के बेटे अब्दुल पर हमला कर दिया। इस बीच बचाव में रज्जाक की हमले से मौत हो गई। इस मामले में पुरवा कोतवाली प्रभारी निरीक्षक अनिल कुमार ने बताया कि कबूतर को लेकर हुई मारपीट में बीच-बचाव करने गए बुजुर्ग की मौत जानबूझ कर नहीं, धक्का-मुक्की के दौरान नाली में गिरने से चोट लगने के कारण हुई है।

ये भी पढ़ें: ललितपुर के कोविड अस्पताल में अव्यवस्थाओं का ढेर, मरीजों का आरोप न पानी मिलता है और न ही भोजन, आवाज उठाने पर मुकदमे में फंसाने की धमकी

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned