त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव - नए फार्मूले से सूची जारी करने की कवायद, निराश नेताओं में जागी आशा

हाई कोर्ट के आदेश के बाद त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में नई रणनीति के साथ ताल ठोकने की तैयारी में है। दूसरे के कंधे पर बंदूक की जगह स्वयं का कंधा तैयार कर रहे हैं हाईकोर्ट का आदेश एक बार फिर नए सिरे से रणनीति बन रही है।

 

By: Narendra Awasthi

Updated: 17 Mar 2021, 08:01 PM IST

उन्नाव. हाईकोर्ट के आदेश के बाद त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में निराश होकर बैठे नेताओं के चेहरे पर रौनक लौट आई है। जब आशा के विपरीत प्रदेश शासन की घोषणा के बाद नई आरक्षण नीति की घोषणा की गई थी। जिस पर हाईकोर्ट ने रोक लगा दिया है। अब फिर से आरक्षण की सूची जारी की जाएगी। जिला पंचायत कार्यालय में नए सिरे से आरक्षण सूची तैयार की जा रही है। अब नए आरक्षण सूची का इंतजार ताल ठोकने वालों को हो रहा है।

यह भी पढ़े

ओवैसी के बयानों से अपराधी पैदा हो रहे बैरिस्टर नहीं - मोहसिन रजा

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में योगी शासन द्वारा दी गई आरक्षण नीति के अनुसार आरक्षण सूची जारी की गई थी आरक्षण सूची जारी होने के बाद उन लोगों में निराशा दौड़ गई थी जिन्होंने दशकों से पंचायत की सीटों पर कब्जा किए हैं। ऐसी तमाम सीटें नई आरक्षण नीति में आरक्षित कर दी गई थी जो आजादी के बाद से आज तक कभी आरक्षण की सूची में नहीं आई थी। लेकिन हाई कोर्ट ने आरक्षण सूची पर रोक लगा दी है और नए सिरे से 2015 को आधार वर्ष मानते हुए आरक्षण सूची जारी करने का निर्देश दिया है। डीपीआरओ कार्यालय द्वारा जारी किए गए आरक्षण सूची और उनकी आपत्तियां सभी निरर्थक साबित हुई। अब एक बार फिर नए सिरे से सूची जारी करने की कवायद में विभाग लगा है।

Narendra Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned