होमगार्ड की पत्नी ने पुलिस पर लगाए बेहद गंभीर आरोप, जेल जाने से बचना है तो...

Nitin Srivastava

Publish: Jan, 14 2018 10:51:28 AM (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India

उन्नाव. होमगार्ड को न्याय के लिए दर-दर की ठोकरें खानी पड़ रही हैं। थाने में कोई सुनवाई नहीं हो रही है। जिला अस्पताल में भर्ती होमगार्ड के परिजनों ने बताया कि गांव के दबंग लोगों ने उन पर उस समय हमला किया। जब वह अपने दरवाजे पर ईंट लगा रहे थे। होमगार्ड को बचाने के लिए दौड़ी घर की महिलाओं को भी दबंगों ने जमकर पीटा।

 

नहीं मिल रहा न्याय

महिलाओं ने बताया कि उन्होंने घायल अवस्था में होमगार्ड को स्थानीय स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया। जहां से डॉक्टरों ने उन्हें जिला अस्पताल रेफर कर दिया। इन लोगों ने थाने जाकर न्याय की गुहार लगाई। लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं हुई। उल्टे उनके ऊपर मुकदमा पंजीकृत करा दिया गया है। अब पुलिस कह रही है कि जेल जाने से बचना है तो पैसे दो और क्रॉस मुकदमा लिखवाओ। वहीं पीड़ित महिला का कहना है कि वह लगातार थाने के चक्कर लगा रही हैं। लेकिन उन्हें न्याय नहीं मिल रहा। योगी शासन में भी पीड़ितों को न्याय नहीं मिल रहा। थाना में बात-बात के लिए पैसे की डिमांड की जाती है। जिस पर अंकुश नहीं लग पा रहा है।

 

घायल होमगार्ड का चल रहा इलाज

मामला अचलगंज थाना क्षेत्र का है। थाना क्षेत्र के गांव वनडे हमीरपुर निवासी होमगार्ड हरिपाल अपने घर के दरवाजे के सामने ईट लगा रहा था। उसी समय गांव के ही निवासी गंगा प्रसाद पुत्र ननकऊ, सुमन देवी पत्नी गंगा प्रसाद, शिवसागर पुत्र गंगा प्रसाद, लल्लन पुत्र अज्ञात ने हरिपाल के घर पर आकर गाली गलौज करते हुये हमला बोल दिया। तभी हरिपाल की भाभी सदारानी और पत्नी मुन्नी देवी बचाने दौड़ी। जिस पर दबंग हमलावरों ने होमगार्ड हरीपाल के साथ औरतों को भी जमकर पीटा। मुन्नी देवी ने बताया कि होमगार्ड हरिपाल को घायल अवस्था में अचलगंज स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया। जहां डॉक्टरों ने गंभीर स्थिति को देखते हुए उन्हें जिला अस्पताल रेफर कर दिया। उनके शरीर में चोटों के अलावा हाथ में फैक्चर हो गया है।

 

नहीं हो रही सुनवाई

होमगार्ड की पत्नी मुन्नी देवी ने बताया कि घटना के बाद से वह लगातार अचलगंज थाना के चक्कर लगा रही है। लेकिन थाने में उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है और न ही उनका मुकदमा लिखा जा रहा है। मुन्नी देवी की मानें तो थाना पुलिस उनके ही खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कर चुकी है। उन्होंने बताया कि जब वह अचलगंज थाने गए तो साहब ने कहा कि अगर जेल जाने से बचना है तो 10000 रुपए दो। क्रॉस केस लिख देंगे जिससे जेल जाने से बच सकती हो। मुन्नी देवी ने बताया कि उनके पास इतने पैसे नहीं है कि थाने की डिमांड पूरी कर सके। वहीं अब पीड़ित उन्नाव के पुलिस अधीक्षक से न्याय की गुहार लगाने की बात कह रहे हैं।

Ad Block is Banned